याद नहीं हमने आखिरी बार कब ठीक से खाना खाया था : साक्षी मलिक


नई दिल्ली
:बिगुल बज चुका है, अब समय आ गया है कि महायुद्ध की तैयारी की जाए। तख्तियां लेकर कई जूनियर पहलवान-लड़कियां और लड़के- पिछले दो दिनों से अपने आइकन के समर्थन में यहां जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। जैसे-जैसे दिन बढ़ता जा रहा है, लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही है।

देश के शीर्ष पहलवानों और डब्ल्यूएफआई के बीच यह लड़ाई कब तक जारी रहेगी यह कोई नहीं जानता है, लेकिन प्रत्येक बीतता दिन आगामी प्रमुख प्रतियोगिताओं – विश्व चैंपियनशिप और एशियाई खेलों के लिए भारत की तैयारियों में बाधा बन रहा है।

कुश्ती पंडितों के अनुसार, इससे पहले कि यह हाथ से निकल जाए, सरकार को इस मुद्दे को जल्द से जल्द सुलझा लेना चाहिए!

ओलंपियन विनेश फोगाट, साक्षी मलिक और बजरंग पुनिया सहित 30 से अधिक पहलवान अपने महासंघ के प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह पर सार्वजनिक रूप से यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने के बाद उनके खिलाफ सड़कों पर हल्लाबोल कर रहे हैं।

उन्होंने बुधवार को नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर एक विरोध प्रदर्शन शुरू किया, जो शुक्रवार को तीसरे दिन में प्रवेश कर गया, और कोई नहीं जानता कि यह कब तक चलेगा! लेकिन पहलवानों के अनुसार, जब तक उनकी मांग मानी नहीं जाती है, तब तक वह विरोध जताते रहेंगे।

सरकारी अधिकारियों और पहलवानों के बीच रोजाना बातचीत हो रही है लेकिन कोई ठोस नतीजा नहीं निकल सका है। पहलवानों ने गुरुवार देर रात खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से भी मुलाकात की थी, हालांकि उस बैठक का भी कोई नतीजा नहीं निकला।

आईएएनएस ने रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक से उनका अगला कदम जानने की कोशिश की। इस बीच, हरियाणा की पहलवान ने उन बुनियादी मुद्दों को भी साझा किया, जिनका विरोध करने वाले पहलवान सामना कर रहे हैं।

साक्षात्कार अंश :

प्रश्न: यह भारतीय पहलवानों के लिए एक महत्वपूर्ण वर्ष है क्योंकि पेरिस ओलंपिक के लिए क्वालीफायर हैं और उसके बाद एशियाई खेल भी हैं। यह आपको मानसिक और शारीरिक रूप से कितना प्रभावित कर रहा है क्योंकि प्रत्येक बीतता दिन महत्वपूर्ण है?

उत्तर: आप पहले से ही प्रभाव देख रहे हैं। आज तीसरा दिन है और हम मानसिक या शारीरिक रूप से कितने परेशान हैं। हम लगभग 4 बजे सोए और फिर जल्दी उठ गए। हमारे पास उचित नींद या भोजन नहीं है। मुझे याद नहीं कि आखिरी बार कब हमने ठीक से खाना खाया था। लेकिन ये फाइट रेसलिंग के लिए अहम है। हमारा प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से अनुरोध है कि हमारी मांगों को जल्द से जल्द पूरा करें, ताकि हम आगामी टूर्नामेंटों के लिए अपना प्रशिक्षण शुरू कर सकें और देश के लिए पदक जीत सकें।

प्रश्न: आप सभी शीर्ष पहलवान हैं जिन्होंने कई प्रतियोगिताओं में भारत को गौरवान्वित किया है, लेकिन अब आप सड़कों पर आने और न्याय के लिए विरोध करने को मजबूर हैं। एक एथलीट के रूप में यह कितना निराशाजनक लगता है।

उत्तर: यह वास्तव में दुखद है कि जाने-माने पहलवान यहां सड़क पर बैठे हैं, अपना प्रशिक्षण छोड़ कर अपने करियर को दांव पर लगा रहे हैं। आज तीसरा दिन है कि हम एक ऐसे मामले के लिए धरने पर बैठे हैं, जिसे एक बार संवाद करके ही सुलझाया जाना चाहिए।

प्रश्न: आप डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह को बर्खास्त करने और महासंघ को भंग करने की मांग कर रहे हैं। इसके बारे में आपको और क्या कहना है?

उत्तर: हम सभी चाहते हैं कि इस फेडरेशन को भंग किया जाए और एक नया फेडरेशन बनाया जाए जिसमें कुश्ती जानने वाले लोगों को शामिल किया जाए। महासंघ में जितने भी लोग हैं उन्हें कुश्ती का कोई ज्ञान नहीं है। वे अपनी मर्जी से नियम बनाते थे और अपनी मर्जी से तोड़ते हैं। हम अब किसी से नहीं डरते हैं हम खेल की रक्षा के लिए डब्ल्यूएफआई का विरोध कर रहे हैं। हमें हर जगह से समर्थन मिल रहा है। कई महिला पहलवान हमारा समर्थन कर रही हैं।

प्रश्न: महासंघ और उसके अध्यक्ष के खिलाफ यह लड़ाई भारत में युवा महिला पहलवानों की मदद करने वाली कैसे है?

उत्तर: अगर हम इस लड़ाई को जीतते हैं तो सिर्फ महिलाओं को ही नहीं बल्कि पूरे कुश्ती खेल को फायदा होने वाला है और भारतीय कुश्ती नई ऊंचाइयों पर पहुंचेगी। अगर यह लड़ाई हमारे पक्ष में खत्म होती है तो नौजवान हमारी तरह दबेंगे नहीं।

प्रश्न: आप सभी ने गुरुवार रात खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से मुलाकात की। आपकी मीटिंग कैसी थी? क्या उन्होंने कोई आश्वासन दिया?

उत्तर: इस समय हमारे पास कहने के लिए कुछ नहीं है। हम आज भी विरोध जारी रखेंगे और देखेंगे कि क्या समाधान निकलता है।

–आईएएनएस

नेपाल से अयोध्या जा रही शालिग्राम शिला का बिहार में जगह-जगह स्वागत, दर्शन के लिए उमड़ रही भीड़

गोपालगंज/ मुजफ्फरपुर:नेपाल के जनकपुर से अयोध्या जा रही शालिग्राम शिला का बिहार में जगह-जगह स्वागत हो रहा है। लोग जगह जगह आरती करते नजर आए तो कई शिला के दर्शन...

राष्ट्रपति मुर्मू पहली बार संसद की संयुक्त बैठक को करेंगी संबोधित

नई दिल्ली : द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित होने के बाद पहली बार संसद की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगी। वह चालू वर्ष के लिए सरकार के ²ष्टिकोण को...

भारत में 2023 में वैश्विक व्यापार और अधिक कम होने की उम्मीद

नई दिल्ली : 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण में चेतावनी दी गई है कि आक्रामक और समकालिक मौद्रिक सख्ती के कारण वैश्विक आर्थिक विकास और विश्व व्यापार धीमा होने लगा है।...

ग्रामीण अर्थव्यवस्था में वृद्धि से मनरेगा की मांग में कमी : आर्थिक सर्वेक्षण

नई दिल्ली : महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) कार्य की मासिक मांग में मजबूत कृषि विकास के कारण साल-दर-साल गिरावट आ रही है। 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण...

सोशल मीडिया को होना चाहिए जिम्मेदार : इलाहाबाद हाईकोर्ट

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश) : इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने झांसी जिले की नंदिनी सचान द्वारा दायर उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें सोशल मीडिया पर अश्लील सामग्री का प्रचार करने...

बांदा के इस स्कूल ने अपने दम पर की बिजली की व्यवस्था

बांदा (उत्तर प्रदेश) : कई पत्र लिखने और सभी से अनुरोध करने के तेरह साल के बाद बांदा के इस सरकारी हाई स्कूल के शिक्षकों और प्रिंसिपल ने आखिरकार खुद...

‘हिमालय को इको सेंसिटिव जोन घोषित करें’

नई दिल्ली : आरएसएस से जुड़े स्वदेशी जागरण मंच ने संबंधित नागरिकों और विशेषज्ञों के साथ शनिवार को 'इमीनेट हिमालयन क्राइसिस' पर एक गोलमेज सम्मेलन का आयोजन किया और हिमालय...

जितने राक्षस हुए हैं, वे ही साधु-संतों को टारगेट करते हैं : मनोज तिवारी

नई दिल्ली: बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक के बाद बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने स्वामी प्रसाद मौर्य पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि आप देश और दुनिया का इतिहास...

तलाक के बाद पिता के नहीं आने पर हाईकोर्ट ने महिला को बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया में बसने की इजाजत दी

बेंगलुरू:कर्नाटक हाईकोर्ट ने एक महिला को उसके बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया में बसने की इजाजत दे दी है, क्योंकि तलाक के बाद आठ साल तक पिता अपने बच्चे को देखने...

शॉर्ट सेलिंग रिपोर्ट से बाजार में हलचल, एसबीआई ने किया एक्सपोजर का बचाव

मुंबई : भारत के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने शुक्रवार को कहा कि अडानी समूह के लिए उसका एक्सपोजर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के बड़े एक्सपोजर फ्रेमवर्क...

आरएसएस प्रमुख के खिलाफ हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस को बहुसंख्यक समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और दो पत्रिकाओं के खिलाफ शिकायत मिली है। हालांकि...

लखनऊ में गणतंत्र दिवस समारोह में दिखा ‘किस्सा कुर्सी का’

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में गणतंत्र दिवस परेड से पहले लखनऊ में 'किस्सा कुर्सी का' का खेल देखने को मिला। मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पूर्व मंत्री मोहसिन...

akash

Read Previous

सर्जिकल स्ट्राइक व युद्ध-भूमि का अभ्यास कर रही है भारत और मिस्र की सेना

Read Next

जोशीमठ भू धंसाव: धंसता चला जा रहा मंदिर परिसर का एक हिस्सा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com