बाल विवाह से डिप्रेशन तक ‘देश के मेंटर्स’ ने स्कूली बच्चो का हाथ थामा

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार की प्रमुख पहल ‘देश के मेंटर’ प्रोग्राम के तहत मेंटर्स ने दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ने वाले सैकड़ों बच्चों के भविष्य को दिशा देने की दिशा में काम किया है। राष्ट्र निर्माण और राष्ट्र के भविष्य को सुरक्षित करने में यह उनका सबसे बड़ा योगदान है। गुरुवार को देश के ‘मेंटर कॉन्क्लेव-2023’ में इन मेंटर्स को सम्मानित किया गया।

दिल्ली सरकार का कहना है कि शिक्षा के क्षेत्र में जब आउट ऑफ बॉक्स जाकर सोचा गया तो देखा की इसमें एक चीज जो मिसिंग है वो है सपना। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के मुताबिक पिछले सात साल में शिक्षा मंत्री के रूप में उन्होंने स्कूलों में लाखों बच्चों के साथ चर्चा की, इन सभी चर्चाओं में बच्चों का ड्रीम कहीं न कहीं मिसिंग था। बच्चों से पूछो भविष्य में क्या करना है तो उनके पास उसका जबाव नहीं होता था। बच्चों के पास सपना नहीं था कि उन्हें आगे भविष्य में क्या करना है। लेकिन देश के मेंटर कार्यक्रम ने इस गैप जो भरने का काम किया है और बच्चों को ये डायरेक्शन दी है कि उन्हें अपने भविष्य में क्या करना है, किस क्षेत्र में जाना है।

सिसोदिया ने कहा कि देश का मेंटर नए आयाम छू रहा है। मेंटरिंग का ये प्रभाव हुआ है कि एक मेंटर ने अपने मेंटी का बाल विवाह रुकवा दिया। मेंटर के मेंटरिंग का ये प्रभाव हुआ कि एक बच्ची जिसे 12वीं के बाद आगे भविष्य में क्या करना है, उसके विषय में कोई भी जानकारी नहीं थी उसने मेंटरिंग पाकर मेहनत की और आईजीडीटीयूडब्ल्यू जैसे प्रतिष्ठित संस्थान से बीटेक कर रही है। वह आज स्वयं 4 बच्चों को मेंटरिंग भी दे रही है। उन्होंने कहा कि देश का पढ़ा-लिखा युवा ये चाहता है कि उसने जो सीखा उसे स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को भी सिखा सकें। उन्हें भविष्य की राह दिखा सके ये कार्यक्रम ऐसे युवाओं को, प्रोफेशनल्स को मौका दे रहे हैं कि वो आगे बढ़कर आयें और स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों का हाथ थाम उन्हें जिंदगी के कठिन चुनौतियो का सामना करते हुए अपने भविष्य को संवारने की दिशा दिखा सकें।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि मेंटरिंग का काम कोई छोटा काम नहीं बल्कि देश की बेहतरी को नया आयाम देने वाला एक महत्वपूर्ण काम है। हमारे मेंटर्स मेंटरिंग के द्वारा अपना समय देश के भविष्य को संवारने के लिए दे रहे हैं, ये देश की तरक्की में उनका बहुत बड़ा योगदान है। उन्होंने कहा कि हमारे मेंटर्स जब अपने मेंटीज से बात करते होंगे तो उस दौरान उन्हें बहुत से उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ता होगा, लेकिन जब भी ऐसा हो तो हमारे मेंटर ये बात ध्यान रखे कि वो सिर्फ किसी एक बच्चे को भविष्य की राह नहीं दिखा रहे बल्कि देश के भविष्य को संवारने का काम कर रहे हैं। हमारे मेंटर अपने काम पर गर्व करें कि अपने काम की बदौलत वो देश को सपना देखना और उस सपने को सच करने के लिए मेहनत करना सीखा रहे हैं।

बता दें कि दिल्ली सरकार का फ्लैगशिप प्रोग्राम ‘देश के मेंटर’ कार्यक्रम भारत का सबसे बड़ा मेंटरिंग प्रोग्राम है। इस कार्यक्रम के तहत लगभग 26,000 मेंटर व 1 लाख मेंटीज ऑनबोर्ड हुए है।

–आईएएनएस

शोधकर्ताओं ने मूत्र के माध्यम से ब्रेन ट्यूमर का पता लगाने वाला उपकरण बनाया

टोक्यो:जापान में शोधकर्ताओं की एक टीम ने मूत्र में महत्वपूर्ण प्रोटीन की पहचान करने वाला नया उपकरण बनाया है, जिससे यह पता चल जाएगा की मरीज को ब्रेन ट्यूमर है...

बीबीसी डॉक्यूमेंट्री को ब्लॉक करने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा सवाल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को 2002 के गुजरात दंगों पर बनी बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर प्रतिबंध लगाने के केंद्र के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर नोटिस...

मार्च तक कोलकाता, पुणे, विजयवाड़ा और हैदराबाद हवाईअड्डों पर डिजी यात्रा लागू होगी

नई दिल्ली : मार्च 2023 तक कोलकाता, पुणे, विजयवाड़ा और हैदराबाद हवाईअड्डों पर डिजी यात्रा लागू की जाएगी। पहले चरण में, डिजी यात्रा 1 दिसंबर, 2022 को दिल्ली, बेंगलुरु और...

ढाई माह में जेलों से बरामद हुए 340 से अधिक फोन

नई दिल्ली:दिल्ली कारागार विभाग ने पिछले ढाई महीने में विभिन्न जेलों से 340 से अधिक मोबाइल फोन और चार्जर बरामद किए हैं, अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। जेल...

बजट से जीवन बीमा कंपनियों पर पड़ी है मार : एमके फाइनेंशियल

चेन्नई : एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज ने कहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बजट प्रस्तावों से जीवन बीमा कंपनियों पर दोहरी मार पड़ी है। यह कुछ निजी कंपनियों...

धनबाद अग्निकांड पर झारखंड हाईकोर्ट सख्त, सरकार से पूछा- आग से बचाव के क्या उपाय किए?

रांची : झारखंड हाईकोर्ट ने धनबाद के आशीर्वाद टावर और हाजरा क्लीनिक में आग लगने से 19 लोगों की मौत की घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार को सख्त...

एनईपी को लागू करने के लिए यूजीसी, केंद्रीय विद्यालय और एनवीएस को मिलेगा और फंड

नई दिल्ली : स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग को बजट आवंटन में 9,752.07 करोड़ रुपये (16.51 प्रतिशत) की वृद्धि मिलेगी, क्योंकि केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय को अब तक का सर्वाधिक 1,12,899.47...

बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने की कोशिश : फिच रेटिंग्स

चेन्नई : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा संसद में पेश 2023-24 का बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने पर जोर दिया गया है। यह बात फिच रेटिंग्स...

बजट एक नज़र में

देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण साल 2023-2024 के लिए केंद्रीय बजट पेश कर रही हैं। यह निर्मला सीतारमण का पांचवा बजट है। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव 2024...

बजट में मनरेगा मजदूरों दलित आदिवासियों की अनदेखी

नई दिल्ली, अरविंद कुमार; जब देश मे बेरोजगारी चरम सीमा पर है और लोग कोरोना के कारण आर्थिक संकट में हैं, सरकार ने इस बार बजट में मनरेगा के बजट...

प्रधानमंत्री ने बजट 2023-24 को ‘अमृत काल का पहला बजट’ बताया

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को केंद्रीय बजट को 'अमृत काल का पहला बजट' (2022 से 2047 तक 25 साल की अवधि, जब देश आजादी के 100 साल मनाएगा)...

बजट में वित्तमंत्री ने की कई बड़ी घोषणाएं, जानिए बजट की 10 प्रमुख बातें

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को बजट पेश किया। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट था। ऐसे में निर्मला सीतारमण ने टैक्स...

akash

Read Previous

रील बनाने के लिए जान जोखिम में डालकर हाथी की स्टैच्यू पर चढ़े बच्चे, डंडा दिखाकर उतारती दिखी पुलिस

Read Next

बुर्का पहनी छात्राओं को कॉलेज में प्रवेश करने से रोका

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com