मंगल ग्रह के पास मिला एकाकी तरंगों का पहला साक्ष्य

नई दिल्ली:मंगल ग्रह के पास एकाकी तरंगों का पहला साक्ष्य मिला है, जो इस ग्रह में आयन हानि के पीछे के रहस्य को उजागर कर सकता है। वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह के चुम्बकीय क्षेत्र (मैग्नेटोस्फीयर) में एकाकी तरंगों या विशिष्ट विद्युत क्षेत्र के उतार-चढ़ाव की उपस्थिति के पहले साक्ष्य की सूचना दी है। इन तरंगों का अध्ययन महत्वपूर्ण है, क्योंकि ऐसे तरंग-कण परस्पर क्रियाओं के माध्यम से सीधे कण ऊर्जा, प्लाज्मा हानि, परिवहन आदि को नियंत्रित करते हैं। केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मुताबिक, हमारी पृथ्वी एक विशाल चुंबक है और इसका चुंबकीय क्षेत्र हमें उन उच्च गति वाले आवेशित कणों से बचाता है जो सौर पवन के रूप में सूर्य से लगातार उत्सर्जित होते रहते हैं। वहीं पृथ्वी के विपरीत मंगल ग्रह का कोई आंतरिक चुंबकीय क्षेत्र नहीं है। यह उच्च गति वाली सौर पवनों को प्रवाह में बाधा की तरह मंगल के वातावरण के साथ सीधे संपर्क करने की अनुमति देता है। ऐसा सुझाव दिया गया है कि मंगल की तरह एक दुर्बल और झीने मैग्नेटोस्फीयर में भी एकाकी तरंगों के उत्सर्जन की लगातार घटनाओं को देखा जा सकता है। हालांकि मंगल पर कई अभियानों (मिशनों) के बावजूद, मंगल ग्रह के मैग्नेटोस्फीयर में एकाकी तरंगों (सोलिटरी वेव्स) की उपस्थिति इससे पहले कभी नहीं बताई गई है।

पहली बार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के एक स्वायत्त संस्थान, भारतीय भू-चुंबकत्व संस्थान, (इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ जिओमैगनेटिस्म-आईआईजी) की एक शोध टीम ने हाई रिजॉल्यूशन की सहायता से मंगल ग्रह के चुम्बकीय क्षेत्र (मार्सियन मैग्नेटोस्फीयर) में एकाकी तरंगों की पहचान और उनकी उपस्थिति की जानकारी दी है।

नासा के मंगल वायुमंडल और वाष्पशील विकास (मार्स एटमोस्फियर एंड वोलेटाइल इवोल्यूशन-एमएवीईएन) अंतरिक्ष यान पर लैंगम्यूर प्रोब एंड वेव इंस्ट्रूमेंट द्वारा विद्युत क्षेत्र डेटा अभिलेखित किया गया है। यहां मैग्नेटोस्फीयर दुर्बल, लेकिन अत्यधिक गतिशील है और मंगल ग्रह के वातावरण के साथ सौर पवनों (सोलर विंड्स) के सीधे संपर्क के कारण बनता है।

एकाकी तरंगें विशिष्ट विद्युत क्षेत्र में एकध्रुवीय अथवा द्विध्रुवीय उतार-चढ़ाव (मोनोपोलर ऑर बाईपोलर फ्ल्क्चुएशंस) हैं, जो निरंतर आयाम-चरण संबंधों का पालन करती हैं। प्रसार के दौरान इनका आकार और आकृति कम प्रभावित होती है। इन स्पंदनों (पल्सेज) का परिमाण और अवधि क्रमश: 1-25 मिलीवोल्ट/मीटर और 0.2-1.7 मिलीसेकंड पाई जाती है। मंगल ग्रह के चारों ओर 1000-3500 किमी की ऊंचाई पर प्रात और दोपहर-शाम के क्षेत्रों में ये स्पंदन प्रमुख रूप से देखे जाते हैं।

भोर और सांझ समय में ऐसी एकाकी तरंगों की प्रभावी उपस्थिति अभी भी एक रहस्य है और इसमें आगे की जांच की जरूरत है। अनुरूपण (सिमुलेशन) के माध्यम से यह पाया गया कि इन संरचनाओं का स्थानिक विस्तार बहुत छोटा (30-330 मीटर) है। चूंकि इन तरंगों को प्लाज्मा ऊर्जाकरण और पृथ्वी के चुम्बकीय क्षेत्र में इसके परिवहन के लिए उत्तरदायी माना जाता है, इसलिए टीम मंगल ग्रह के चुम्बकीय क्षेत्र में कण गतिकी (पार्टिकल डायनेमिक्स) में उनकी भूमिका और क्या ऐसी तरंगें मंगल ग्रह पर वायुमंडलीय आयनों की क्षति में कोई भूमिका निभाती हैं या नहीं, की खोजकर कर रही है।

–आईएएनएस

दिल्ली विश्वविद्यालय में अब मुफ्त में पढ़ सकेंगे अनाथ बच्चे : कुलपति

नई दिल्ली, अरविंद कुमार :दिल्ली विश्विद्यालय ने अपने शताब्दी वर्ष में अनाथ बच्चों के लिए आरक्षण एवम मुफ्त शिक्षा का प्रावधान किया है।इससे हर साल उन हजारों अनाथ बच्चों को...

निर्वाचन आयोग का गीत ‘मैं भारत हूं’ सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

नई दिल्ली : इस साल होने वाले नौ विधानसभा चुनावों और अगले साल की शुरुआत में होने वाले लोकसभा चुनावों को देखते हुए चुनाव आयोग द्वारा तैयार किया गया गीत...

एसएंडपी ग्लोबल ने अडानी इलेक्ट्रिसिटी, अदानी पोर्ट्स की रेटिंग को ‘नेगेटिव’ किया

चेन्नई : वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स ने शुक्रवार को कहा कि उसने अदानी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड और अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड के रेटिंग आउटलुक...

‘श्रमिकों की आवश्यक संख्या के लिए फिनलैंड को विदेशियों के आने की दर करनी होगी तिगुनी’

हेलसिंकी : फिनलैंड को देश की श्रम शक्ति की जरूरतों के लिए सालाना करीब 44,000 लोगों के आव्रजन की जरूरत है। एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। समाचार...

बच्चों में परीक्षा से जुड़े तनाव को दूर करने के लिए परीक्षा पर्व 5.0 का आयोजन होगा

नई दिल्ली: राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) प्रधानमंत्री के परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम से प्रेरित होकर 6 फरवरी से 31 मार्च तक परीक्षा पर्व 5.0 का आयोजित कर रहा...

देश वंचितों को प्राथमिकता देता है: पीएम मोदी

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्र उन लोगों को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है जो अब तक वंचित और उपेक्षित रहे हैं। असम के बारपेटा स्थित कृष्णगुरु...

शोधकर्ताओं ने मूत्र के माध्यम से ब्रेन ट्यूमर का पता लगाने वाला उपकरण बनाया

टोक्यो:जापान में शोधकर्ताओं की एक टीम ने मूत्र में महत्वपूर्ण प्रोटीन की पहचान करने वाला नया उपकरण बनाया है, जिससे यह पता चल जाएगा की मरीज को ब्रेन ट्यूमर है...

बीबीसी डॉक्यूमेंट्री को ब्लॉक करने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा सवाल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को 2002 के गुजरात दंगों पर बनी बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर प्रतिबंध लगाने के केंद्र के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर नोटिस...

मार्च तक कोलकाता, पुणे, विजयवाड़ा और हैदराबाद हवाईअड्डों पर डिजी यात्रा लागू होगी

नई दिल्ली : मार्च 2023 तक कोलकाता, पुणे, विजयवाड़ा और हैदराबाद हवाईअड्डों पर डिजी यात्रा लागू की जाएगी। पहले चरण में, डिजी यात्रा 1 दिसंबर, 2022 को दिल्ली, बेंगलुरु और...

ढाई माह में जेलों से बरामद हुए 340 से अधिक फोन

नई दिल्ली:दिल्ली कारागार विभाग ने पिछले ढाई महीने में विभिन्न जेलों से 340 से अधिक मोबाइल फोन और चार्जर बरामद किए हैं, अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। जेल...

बजट से जीवन बीमा कंपनियों पर पड़ी है मार : एमके फाइनेंशियल

चेन्नई : एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज ने कहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बजट प्रस्तावों से जीवन बीमा कंपनियों पर दोहरी मार पड़ी है। यह कुछ निजी कंपनियों...

धनबाद अग्निकांड पर झारखंड हाईकोर्ट सख्त, सरकार से पूछा- आग से बचाव के क्या उपाय किए?

रांची : झारखंड हाईकोर्ट ने धनबाद के आशीर्वाद टावर और हाजरा क्लीनिक में आग लगने से 19 लोगों की मौत की घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार को सख्त...

akash

Read Previous

बाबर आजम के निजी वीडियो सोशल मीडिया पर लीक, यूजर्स ने दी प्रतिक्रिया

Read Next

कौन है अब्दुल रहमान मक्की जिसे यूएनएससी ने वैश्विक आतंकवादी घोषित किया?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com