पहले कोविड, अब छंटनी : जबरदस्त तनाव, चिंता से गुजर रहे भारतीय पेशेवर

नई दिल्ली : बढ़ती छंटनी के बीच विभिन्न कंपनियों से आने वाले रोगियों की संख्या में वृद्धि हुई है – कार्यालय जाने वाले और घर से काम करने वाले दोनों – पैनिक एंग्जायटी अटैक और डिप्रेशन से ग्रस्त हैं, क्योंकि उन्हें उनकी भविष्य की योजनाओं पर नियंत्रण खोने का डर है। मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने सोमवार को यह बात कही। जनवरी में रोजाना औसतन लगभग 3,000 तकनीकी पेशेवर अपनी नौकरी खो रहे हैं, जिनमें भारत में हजारों शामिल हैं।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, पिछले 2-3 वर्षो के कोविड लॉकडाउन, मौतों और पुन: संक्रमण के डर और अब बड़े पैमाने पर छंटनी के कारण भारतीय पेशेवरों के लिए अत्यधिक तनाव पैदा हो गया है।

गुरुग्राम के मैक्स अस्पताल में मनोचिकित्सा की वरिष्ठ सलाहकार डॉ. सौम्या मुद्गल ने आईएएनएस को बताया कि बहुराष्ट्रीय कंपनियों से आने वाले मरीजों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है।

डॉ. मुद्गल ने आईएएनएस को बताया, “इन रोगियों को आमतौर पर एगोराफोबिया के साथ पैनिक एंग्जाइटी और पैनिक डिसऑर्डर के मुद्दों के साथ प्रस्तुत किया जाता है और ऐसे रोगियों में काफी वृद्धि हुई है। उनमें से कुछ पहले से ही दवाएं ले रहे हैं और दवा की आवश्यकता बढ़ गई है और लक्षणों की गंभीरता बढ़ गई है।

उनके अनुसार, बहुत सारे लोग चिंता या मिश्रित चिंता से संबंधित चिंता और समायोजन के मुद्दों के ताजा या हाल ही में शुरू होने वाले लक्षणों के साथ आ रहे हैं।

अधिकांश लोगों के लिए छंटनी और रोजगार का नुकसान बहुत तनावपूर्ण अनुभव हैं। यह अनिश्चितताओं, आर्थिक चुनौतियों और आपके भविष्य पर नियंत्रण खोने का समय है।

वाशिंगटन, डीसी में जीडब्ल्यू स्कूल ऑफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज के मनोचिकित्सा के सहायक प्रोफेसर डॉ. ऋषि गौतम के अनुसार, यह एक पेशेवर के मानसिक स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकता है और चिंता, उदास मनोदशा, सदमा और शोक का कारण बन सकता है।

डॉ. गौतम ने आईएएनएस को बताया, “यह नींद और भूख को प्रभावित करता है, दवाओं और शराब के अस्वास्थ्यकर सेवन के जोखिम को बढ़ाता है, चिड़चिड़ापन, आत्मसम्मान की हानि, पारिवारिक कलह आदि का कारण बनता है।”

दिल्ली के सर गंगा राम अस्पताल की वरिष्ठ नैदानिक मनोवैज्ञानिक डॉ. आरती आनंद ने कहा कि महामारी और बिना किसी चेतावनी के बड़े पैमाने पर छंटनी, दोनों ने श्रमिक वर्ग को शहरों से खदेड़ दिया है।

उन्होंने सलाह दी, “यह स्थिति डर और तनाव की ओर ले जाती है। इससे निपटने का तरीका यह है कि आप अपने उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करने में सक्षम हों, घबराएं नहीं और भविष्य के बारे में नकारात्मक सोचना बंद कर दें।”

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा कि इस अनिश्चित समय से निपटने के लिए दोस्तों और परिवार के साथ सहायक संबंध बनाए रखना, नियमित रूप से व्यायाम करना और माइंडफुलनेस का अभ्यास करना है। सकारात्मक दृष्टिकोण रखें।

डॉ. गौतम ने कहा, “मुझे फिर कभी नौकरी नहीं मिलेगी या मैं फिर कभी अपने काम का आनंद नहीं लूंगा, जैसे सामान्य नकारात्मक विचारों से दूर रहें।”

एंब्रेस इम्पेरफेक्शन की संस्थापक और परामर्श मनोवैज्ञानिक दिव्या महेंद्रू ने आईएएनएस को बताया कि मौजूदा छंटनी से प्रभावित लोगों को इससे भावनात्मक रूप से नहीं, बल्कि व्यावहारिक रूप से निपटने की जरूरत है।

उन्होंने सलाह दी, “संभावित नियोक्ताओं की सूची बनाना शुरू करें, उपलब्ध अवसरों और कंपनियों के बारे में शोध करें, अपस्किल के लिए रास्ते तलाशें और यदि आवश्यक हो तो अन्य क्षेत्रों में भी अवसर तलाशें।”

उन्होंने कहा, “उम्मीदवारी के दौरान नियोक्ताओं से अपनी स्थिति का वर्णन करने के लिए मानसिक रूप से तैयार रहें। दोस्तों, पूर्व मालिकों और सहयोगियों के साथ संपर्क बनाएं, यह नेटवर्क के लिए भी महत्वपूर्ण है।”

मोहिंद्रू ने कहा, सभी पेशेवरों को अपने काम की जिम्मेदारियों को सहयोगियों और घर पर परिवार के सदस्यों के साथ साझा करना चाहिए, जिससे उन्हें न केवल जवाबदेह होने में मदद मिलेगी, बल्कि अपने जीवन और कार्यो के बारे में सोचते समय हल्कापन महसूस होगा।

–आईएएनएस

अमूल ने प्रति लीटर तीन रुपये बढ़ाई दूध की कीमत

अहमदाबाद : गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (जीसीएमएमएफ) ने तत्काल प्रभाव से अमूल पाउच दूध (सभी वेरिएंट) की कीमतों में 3 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की है। दिल्ली,...

बजट से जीवन बीमा कंपनियों पर पड़ी है मार : एमके फाइनेंशियल

चेन्नई : एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज ने कहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बजट प्रस्तावों से जीवन बीमा कंपनियों पर दोहरी मार पड़ी है। यह कुछ निजी कंपनियों...

बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने की कोशिश : फिच रेटिंग्स

चेन्नई : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा संसद में पेश 2023-24 का बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने पर जोर दिया गया है। यह बात फिच रेटिंग्स...

बजट में वित्तमंत्री ने की कई बड़ी घोषणाएं, जानिए बजट की 10 प्रमुख बातें

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को बजट पेश किया। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट था। ऐसे में निर्मला सीतारमण ने टैक्स...

सरकार ने राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत तय किया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत निर्धारित किया, जबकि इस बात पर जोर...

नई कर व्यवस्था में 7 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए नए टैक्स स्लैब की घोषणा की, जिसके तहत नई आयकर व्यवस्था के तहत सालाना 7 लाख रुपये...

‘सार्वजनिक पूंजीगत खर्च बढ़ने पर बजट ने निराश नहीं किया’

चेन्नई : एक्यूट रेटिंग्स एंड रिसर्च के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बजट 2023-24 सरकार द्वारा सार्वजनिक पूंजीगत व्यय की प्रतिबद्धता के संबंध में निराशाजनक नहीं है। "बाजार सरकार...

आम बजट 2023-24 : गोबर बनेगा कमाई का जरिया

नई दिल्ली : लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना पांचवां बजट पेश कर रही हैं। वित्तमंत्री ने बजट में वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पीएम प्रणाम योजना...

पीएम आवास योजना का परिव्यय 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये किया गया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के परिव्यय को 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये करने की घोषणा की। इस योजना में...

भारतीय अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर : सीतारमण

नई दिल्ली : लोकसभा में केंद्रीय बजट 2023-24 पेश करते हुए, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था 'सही रास्ते पर है और उज्‍जवल भविष्य...

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, समावेशी विकास पर है बजट का फोकस

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सरकार का आर्थिक एजेंडा नागरिकों के लिए अवसरों को सुविधाजनक बनाने, विकास और रोजगार सृजन को मजबूत गति प्रदान...

वित्तमंत्री 11 बजे पेश करेंगी बजट

नई दिल्ली: | वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 2024 लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार के कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट आज पेश करेंगी। सुबह 11 बजे वित्त मंत्री का लोकसभा...

admin

Read Previous

ट्रोलिंग मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करती है : अंजलि अरोड़ा

Read Next

तुर्की के राष्ट्रपति ने स्वीडन की नाटो में शामिल होने को समर्थन न देने की दी धमकी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com