बिहार : पटना में लगे सरस मेले में दिख रही आधी आबादी के आत्मनिर्भर बनने की झलक

बिहार की राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में लगने वाले सरस मेले में लोगों की भीड़ उमड़ रही है। ‘उद्यमिता से सशक्तिकरण’ की थीम के साथ इस सरस मेला में न केवल गांव और प्राचीन संस्कृति की झलक दिख रही बल्कि आत्निर्भरता को लेकर भी लोगों खासकर महिलाओं में एक जुनून दिख रहा।

इस मेला में बिहार समेत 19 राज्यों के स्वयं सहायता समूह और स्वरोजगारी अपने-अपने क्षेत्र के ग्रामीण शिल्प कलाकृतियां और व्यंजन को लेकर उपस्थित हैं।

बिहार सरस मेला, ग्रामीण विकास विभाग के तत्वाधान में बिहार ग्रामीण जीविकोपार्जन प्रोत्साहन समिति (जीविका ) द्वारा 15 दिसंबर से शुरू यह मेला 29 दिसंबर तक चलेगा।

ग्रामीण शिल्प को बाजार उपलब्ध करने के उदेश्य से आयोजित सरस मेला में ग्रामीण शिल्प और व्यंजनों के 489 स्टॉलों पर आगंतुकों की भीड़ उमड़ पड़ी है। इसमें 195 स्टॉल पर जीविका समूह की ग्रामीण उद्यमियों, 145 स्टॉल स्वरोजगारियों 38 स्टॉल विभिन्न विभाग, बैंक, संस्थान एवं अन्य राज्यों के आजीविका मिशन के 68 स्टॉल पर उत्पाद प्रदर्शनी, एवं बिक्री के साथ ही आगंतुकों को जागरूक करने के उद्देश्य से लगाये गए हैं।

स्टॉल और ओपन एरिया में आगंतुक ग्रामीण शिल्प और कलाकृतियों से रूबरू हो रहे हैं।

जीविका के सीईओ राहुल कुमार ने कहा कि जीविका द्वारा आयोजित बिहार सरस मेला अब राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शित है। साथ ही सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है।

राज्यों की लोक संस्कृति के साथ गांव की मिठास लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। इस मेले में ग्रामीण शिल्प कलाओं के कद्रदान खूब उमड़ रहे हैं। रविवार को लोगों की भीड़ खूब उमड़ी। एक अनुमान के मुताबिक,तीन दिनों के दौरान लोगों ने एक करोड़ 50 लाख रुपये की खरीदारी की।

29 दिसंबर तक चलने वाले मेले में सहारनपुर के लकड़ी के बने टेलीफोन, पद्मश्री किसान चाची के आचार, मणिपुर के कउना घास से बनी कलाकृतियां लोगों को खूब भा रही है।

इसके आलावा टिकुली, सिक्की, बैम्बू आर्ट, मधुबनी आर्ट, हस्तकरघा से निर्मित सामाग्री और गृह सज्जा के एक से बढ़कर एक सामान यहां लाए गए हैं। मेले में लगे स्टॉलों की ओर देखे तो अधिकांश स्टालों की जिम्मेदारी आधी आबादी ने संभाल रखी है।

अचार का स्टॉल लगाई महिला यशोदा बताती है कि ग्रामीण परिवेश और परंपरागत रूप से लगाए गए अचार की मांग बराबर रहती है। बिहार के अचार पहले से ही प्रसिद्ध हैं।

लकड़ी से खिलौने बनाने के लिए प्रसिद्ध सहारनपुर से भी लकड़ी के खिलौने इस मेले में आने वाले लोगों के लिए पसंदीदा बना हुआ है। बच्चे इन खिलौने की ओर खूब आकर्षित हो रहे हैं।

–आईएएनएस

नेपाल से अयोध्या जा रही शालिग्राम शिला का बिहार में जगह-जगह स्वागत, दर्शन के लिए उमड़ रही भीड़

गोपालगंज/ मुजफ्फरपुर:नेपाल के जनकपुर से अयोध्या जा रही शालिग्राम शिला का बिहार में जगह-जगह स्वागत हो रहा है। लोग जगह जगह आरती करते नजर आए तो कई शिला के दर्शन...

राष्ट्रपति मुर्मू पहली बार संसद की संयुक्त बैठक को करेंगी संबोधित

नई दिल्ली : द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित होने के बाद पहली बार संसद की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगी। वह चालू वर्ष के लिए सरकार के ²ष्टिकोण को...

भारत में 2023 में वैश्विक व्यापार और अधिक कम होने की उम्मीद

नई दिल्ली : 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण में चेतावनी दी गई है कि आक्रामक और समकालिक मौद्रिक सख्ती के कारण वैश्विक आर्थिक विकास और विश्व व्यापार धीमा होने लगा है।...

ग्रामीण अर्थव्यवस्था में वृद्धि से मनरेगा की मांग में कमी : आर्थिक सर्वेक्षण

नई दिल्ली : महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) कार्य की मासिक मांग में मजबूत कृषि विकास के कारण साल-दर-साल गिरावट आ रही है। 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण...

सोशल मीडिया को होना चाहिए जिम्मेदार : इलाहाबाद हाईकोर्ट

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश) : इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने झांसी जिले की नंदिनी सचान द्वारा दायर उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें सोशल मीडिया पर अश्लील सामग्री का प्रचार करने...

बांदा के इस स्कूल ने अपने दम पर की बिजली की व्यवस्था

बांदा (उत्तर प्रदेश) : कई पत्र लिखने और सभी से अनुरोध करने के तेरह साल के बाद बांदा के इस सरकारी हाई स्कूल के शिक्षकों और प्रिंसिपल ने आखिरकार खुद...

‘हिमालय को इको सेंसिटिव जोन घोषित करें’

नई दिल्ली : आरएसएस से जुड़े स्वदेशी जागरण मंच ने संबंधित नागरिकों और विशेषज्ञों के साथ शनिवार को 'इमीनेट हिमालयन क्राइसिस' पर एक गोलमेज सम्मेलन का आयोजन किया और हिमालय...

जितने राक्षस हुए हैं, वे ही साधु-संतों को टारगेट करते हैं : मनोज तिवारी

नई दिल्ली: बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक के बाद बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने स्वामी प्रसाद मौर्य पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि आप देश और दुनिया का इतिहास...

तलाक के बाद पिता के नहीं आने पर हाईकोर्ट ने महिला को बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया में बसने की इजाजत दी

बेंगलुरू:कर्नाटक हाईकोर्ट ने एक महिला को उसके बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया में बसने की इजाजत दे दी है, क्योंकि तलाक के बाद आठ साल तक पिता अपने बच्चे को देखने...

शॉर्ट सेलिंग रिपोर्ट से बाजार में हलचल, एसबीआई ने किया एक्सपोजर का बचाव

मुंबई : भारत के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने शुक्रवार को कहा कि अडानी समूह के लिए उसका एक्सपोजर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के बड़े एक्सपोजर फ्रेमवर्क...

आरएसएस प्रमुख के खिलाफ हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस को बहुसंख्यक समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और दो पत्रिकाओं के खिलाफ शिकायत मिली है। हालांकि...

लखनऊ में गणतंत्र दिवस समारोह में दिखा ‘किस्सा कुर्सी का’

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में गणतंत्र दिवस परेड से पहले लखनऊ में 'किस्सा कुर्सी का' का खेल देखने को मिला। मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पूर्व मंत्री मोहसिन...

editors

Read Previous

केंद्र ने हमारी मांगों पर ध्यान नहीं दिया तो संकट का सामना करना पड़ेगा: बीकेएस

Read Next

पाक में आतंकवादियों का काउंटर टेरर कंपाउंड पर कब्जा, इलाके में चलाया जा रहा अभियान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com