जब दिया रंज बुतों ने तो ख़ुदा याद आया

बिहार की सत्ता में शामिल राजद के लिए सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। गोपलगंज उपचुनाव में मिली हार से वह उबर नहीं पा रहा है। राजद के वोट बैंक में एआईएमआईएम की सेंधमारी के बाद राजद में मंथन चल रहा है। एआईएमआईएम के पांच विधायकों को तोड़ कर इतराने वाला राजद को गोपालगंज में उसी एमआईएमआईएम ने बड़ी चोट दी है। उसके उम्मीदवार ने बारह हजार से ज्यादा वोट लेकर राजद के एमवाई समीकरण में बड़ी सेंधमारी की। मुसलमानों की नाराजगी राजद पर भारी पड़ रही है इसलिए उसने अब फिर से मुसलमानों को साधने के लिए नई चाल चली है। राजद प्रदेश अध्यक्ष पद पर पुराने समाजवादी नेता और पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी की ताजपोशी करने की सोच रहा है। दरअसल राजद के मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह पार्टी से नाराज चल रहे हैं और ऐसा माना जा रहा है कि अब उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष पर बने रहने से इनकार कर दिया है। महीनों से वे पार्टी का कामकाज छोड़ कर अपने घर पर आराम कर रहे हैं। इसे देखते हुए अब्दुल बारी सिद्दीकी को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की तैयारी की जा रही हैं। हालांकि ऐसा कहा जा रहा है कि लालू यादव जगदानंद सिंह को मनाने में लगे हैं। सिंगापुर जाने से पहले लालू यादव दोनों नेताओं से मिले और लंबी बातचीत की। इसके बाद ही कयास लगाए जा रहे हैं कि लालू यादव जगदानंद सिंह को मनाने में कामयाब हो गए हैं। अगर ऐसा होता है तो फिर सिद्दीकी को कार्यकारी अध्यक्ष पद का झुनझुना थमाया जा सकता है। दो अक्तूबर से जगदानंद सिंह ने पार्टी कार्यालय से दूरी बना ली थी। विधानसभा की दो सीटों पर हुए उपचुनाव में भी वे सक्रिय नहीं रहे थे।

दिल्ली में हुए राजद की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भी जगदानंद शामिल नहीं हुए। पार्टी सूत्रों का कहना है कि उनका टिकट बना हुआ था पर वे नहीं गए। पुत्र सुधाकर सिंह के इस्तीफे के बाद उनकी नारजगी की बात सामने आई थी। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समय यह बात सामने आई थी कि उन्होंने राजद के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

वैसे अब्दुल बारी सिद्दीकी की बात करें तो लालू यादव और तेजस्वी यादव ने उन्हें राज्यसभा या विधान परिषद भेजने लायक तक नहीं समझा था। राजद के अंदर चल रहे खेल पर कई सवाल उठ रहे हैं। सबसे बड़ा सवाल यह है कि अब्दुल बारी सिद्दीकी को ही प्रदेश अध्यक्ष क्यों बनाया ज रहा है। दिलचस्प यह है कि खुद सिद्दीकी खुद अध्यक्ष बनने में बहुत रूचि नहीं ले रहे हैं। माना जा रहा है कि गोपालगंज में मिली हार के बाद राजद ने सिद्दीकी को अध्यक्ष बनाने का फैसला किया। राजद के एमवाई समीकरण के एम यानी मुसलमानों की नाराजगी को ध्यान में रख कर ही राजद न सिद्दीकी को प्रदेश अध्यक्ष बनाने का फैसला लिया है। गोपालगंज उपचुनाव में मुसलमानों की राजद से नाराजगी खुल कर सामने आई। गोपालगंज में मुसलमानों के वोट में सेंध लगा और अच्छा खासा वोट एआईएमआईएम को मिला। एआईएमआईएम उम्मीदवार अब्दुल सलाम को बारह हजार से ज्यादा वोट मिले थे। मुसलमानों ने यह जानते हुए भी कि अब्दुल सलाम नहीं जीतेंगे लेकिन फिर भी उन्हें मुसलमानों का साथ मिला। इस सीट पर राजद करीब सत्रह सौ वोट से पिट गया। यानी अगर मुसलमानों का वोट नहीं बटता तो राजद आसानी से यह सीट निकाल लेता।

वैसे बिहार में मुसलमानों का एक तबका अब किसी मुसलमान को उप मुख्यमंत्री बनाने की भी मांग कर रहा है। उनका कहना है कि राजद एम वाई समीकरण वाली पार्टी है औऱ बिहार में मुसलमान वोटरों की संख्या यादवों से ज्यादा है तो फिर मुसलमानों के साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है। यादव कोटे से तेजस्वी मुख्यमंत्री के उम्मीदवार हैं और अभी उप मुख्यमंत्री हैं। फिर किसी मुसलमान को उप मुख्यमंत्री क्यों नहीं बनाता है राजद। एनडीए सरकार में भाजपा ने दो उप मुख्यमंत्री बनाया था। राजद एक मुसलमान को इस कुर्सी पर बिठाकर दो उप मुख्यमंत्री क्यों नहीं बनाता है।
हालांकि यह भी सच है कि लालू औऱ तेजस्वी ने सिद्दीकी की खूब अनदेखी है और अब उन्हें प्रदेश अध्यक्ष के पद का लालीपाप थमाने पर विचार कर रहे हैं। दरअसल इसी साल राज्यसभा और विधान परिषद के चुनाव हुए। राजद ने अपने कोटे से एक मुसलमान को राज्यसभा भेजा। अब्दुल बारी सिद्दीकी पार्टी के सबसे सीनियर मुस्लिम नेता थे। लालू-तेजस्वी ने राज्यसभा के समय सिद्दीकी से बात करना भी बंद कर दिया था। मुस्लिम कोटे से फैयाज आलम को राज्यसभा भेज दिया गया। फैयाज आलम उसी मिथिलांचल इलाके से आते हैं जहां के सिद्दीकी हैं। फैयाज का पार्टी से नाता बहुत पुराना नहीं है जबकि सिद्दीकी राजद के बनने से पहले से लालू यादव के साथ राजनीति करते रहे हैं। लेकिन चर्चा इस बात की है कि राज्यसभा चुनाव में फैयाज आलम ने बेतरह पैसा खर्च किया। राज्यसभा तो जाने दें अब्दुल बारी सिद्दीकी को विधान परिषद चुनाव में भी नहीं पूछा गया। पार्टी ने इस चुनाव में कारी सोहेब जैसे दोयम दर्जे के नेता को उम्मीदवार बनाया। कारी सोहेब को लेकर चर्चा आम है कि वह लालू यादव-तेजस्वी यादव के पांव तक छूता है।

अब्दुल बारी सिद्दीकी विधानसभा का पिछला चुनाव हार गए थे। उन्होंने पार्टी नेतृत्व को साफ बताया था कि कैसे दरभंगा के राजद नेताओं ने ही उन्हें हराया। हराने वालों में राजद के यादव नेताओं की बड़ी भूमिका रही थी। राजद नेताओं का ऑडियो क्लीप भी सामने आया था। हार का षडयंत्र रचने का आरोप जिस नेता पर लगा उसे सरकार में मंत्री बना कर पुरस्कृत कर दिया गया है। अब देखना यह है कि सिद्दीकी प्रदेश अध्यक्ष बन पाते हैं या नहीं या फिर लालू यादव जगदा बाबू पर ही भरोसा जताते हैं। गोपालगंज ने राजद के लिए खतरे की घंटी तो बजा ही दी है। गोपालगंज में मिली हार के बाद लालू यादव और उनके कुंबे की परेशानी बढ़ी भी है क्योंकि आमतौर पर बिहार के मुसलमानों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की छवि बेहतर है। भाजपा के साथ की वजह से भले मुसलमान उनसे छिटके रहते थे लेकिन नीतीश के कामकाज पर मुसलमान उंगली नहीं उठाता है। मुसलमान लालू से नीतीश को बेहतर मानता है क्योंकि नीतीश के कार्यकाल में मुसलमानों के लिए सरकार ने काम किया, सिर्फ वादों और दिलासों का झुनझुना नहीं थमाया है। एआईएमआईएम के बढ़ते प्रभाव से राजद चिंतित है। ऐसा होना स्वाभाविक भी है। मुसलमानों की सुध लेने की बात राजद कर रहा है तो इसके पीछे वोट बैंक छिटकने का खतरा है। यानी जब दिया रंज बुतों ने तो राजद को खुदा याद आरहा है।

लखनऊ में गणतंत्र दिवस समारोह में दिखा ‘किस्सा कुर्सी का’

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में गणतंत्र दिवस परेड से पहले लखनऊ में 'किस्सा कुर्सी का' का खेल देखने को मिला। मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पूर्व मंत्री मोहसिन...

केरल की ‘रोल मॉडल’ कार्तियानी अम्मा गुजारे के लिए कर रहीं संघर्ष

तिरुवनंतपुरम : भारत में गुरुवार को 74वां गणतंत्र दिवस मनाया गया। नारी शक्ति पुरस्कार की विजेता कार्तियानी अम्मा की केरल की झांकी ने नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड में...

निजी स्कूल में पढ़ रही दो बहनों में से एक की फीस देगी राज्य सरकार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि यदि दो बहनें किसी निजी स्कूल में पढ़ती हैं तो एक की फीस राज्य सरकार भरेगी। इसके लिए अगले...

सुखोई, राफेल सहित 45 लड़ाकू विमानों ने किया कर्तव्य पथ पर ‘फ्लाई पास्ट’

नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस परेड का एक बड़ा रोमांच वायु सेना के जहाजों का फ्लाई पास्ट रहा। सुखोई और राफेल जैसे आधुनिकतम लड़ाकू विमान कर्तव्य पथ पर बेहतरीन फॉरमेशन...

479 कलाकारों ने भरा गणतंत्र दिवस परेड में रंग, अधिकांश झांकियों का शीर्षक ‘नारी शक्ति’

नई दिल्ली : दिल्ली में कर्तव्य पथ पर आई विभिन्न झांकियों में से अधिकांश का शीर्षक इस वर्ष 'नारी शक्ति' रहा। वंदे भारतम नृत्य प्रतियोगिता के माध्यम से चुने गए...

आरएसएस नेताओं की मुस्लिम बुद्धिजीवियों, उलेमाओं संग हुई बैठक; काशी-मथुरा, गौ-हत्या और काफिर शब्द पर हुई चर्चा

नई दिल्ली : देश के हिंदुओं और मुस्लिमों को एक मंच पर लाने की कवायद के तहत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा देश के मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ संपर्क और संवाद...

इमारत गिरने के दौरान ‘डोरेमोन’ पाठ ने इस लड़के को बचाया

लखनऊ : छह साल का मुस्तफा लखनऊ में इमारत गिरने के हादसे में बाल-बाल बच गया, लेकिन उसने अपनी मां उजमा और दादी बेगम हैदर को खो दिया। बचे 14...

गणतंत्र दिवस पर बिजली कटौती मुक्त होगा उत्तर प्रदेश

लखनऊ:उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) के अवसर पर प्रदेश को विद्युत कटौती से मुक्त रखने का निर्देश दिया है। निर्देश के अनुसार...

बाबा बैद्यनाथ को न्योता देने उनकी ससुराल से देवघर पहुंचे डेढ़ लाख श्रद्धालु

देवघर:26 जनवरी को वसंत पंचमी पर जब पूरे देश में हर जगह देवी सरस्वती की पूजा-अर्चना होगी, तब झारखंड के देवघर में बाबा बैद्यनाथ का तिलक-अभिषेक करने के बाद लाखों...

महाराष्ट्र : पहली महिला दलित आत्मकथाकार शांताबाई के. कांबले का 99 की उम्र में निधन

पुणे:प्रख्यात लेखिका शांताबाई कृष्णाजी कांबले, जिन्हें पहली महिला दलित आत्मकथाकार के रूप में जाना जाता है, का यहां बुधवार सुबह 99 साल की उम्र में निधन हो गया। उनके एक...

अमेरिका भविष्य के मंगल अभियानों के लिए परमाणु इंजन का परीक्षण करेगा

लॉस एंजिलिस : नासा और यूएस डिफेंस एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी (डीएआरपीए) ने अंतरिक्ष में एक परमाणु थर्मल रॉकेट इंजन का परीक्षण करने के लिए एक सहयोग की घोषणा की...

मेट्रो में मंजुलिका और मनी हाइस्ट के कॉस्ट्यूम पहने वीडियो आया सामने

नोएडा: नोएडा मेट्रो के अंदर का एक वीडियो सामने आया है। इसमें एक लड़की भूलभुलैया फिल्म की मंजुलिका जैसा कास्ट्यूम पहने हुए है और मेट्रो में सफर कर रहे मुसाफिरों...

editors

Read Previous

सवालों से भागता बीसीसीआई

Read Next

बहुविवाह व ‘निकाह-हलाला’ के खिलाफ याचिकाओं पर सुनवाई के लिए संविधान पीठ बनाने पर सहमत सुप्रीम कोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com