भीमा कोरेगांव के आरोपियों के रिश्तेदारों और परिजनों ने फादर स्टैन स्वामी की मौत को ”संस्थागत हत्या” बताया

मुंबई: फादर स्टैन स्वामी की जमानत का इंतजार करते-करते ही मौत के बाद भीमा कोरेगांव षड्यंत्र मामले के आरोपियों के रिश्तेदारों और परिजनों ने एक बयान जारी कर दोहराया है कि अन्याय के खिलाफ वह मूक दर्शक नहीं बने रहेंगे और कोई भी कीमत चुकाने के लिए तैयार रहेंगे।

मीनल गाडलिंग, रॉय विल्सन, मोनाली राऊत, कोयल सेन, हर्षाली पोतदार, शरद गायकवाड़, मायशा सिंह, वाय फरेरा, सुसान अब्राहम, पी हेमलता, साहबा हुसैन, रमा तेलतुंबड़े, जेनी रोवेना, सुरेखा गोरखे, प्रणाली परब, रुपाली जाधव, फादर जो जेवियर आदि के जारी इस बयान में कहा गया है कि फादर स्टैन स्वामी के निधन से वह सदमे में हैं। यह प्राकृतिक मौत नहीं है बल्कि बेरहम सत्ता द्वारा एक सीधे-सादे व प्यारे इंसान की सांस्थानिक हत्या है।

उन्होंने कहा है कि फादर स्टैन की मौत इस तरह – अपने प्रदेश झारखंड से दूर – नहीं होनी चाहिए थी।
फादर स्टैन 16वें व्यक्ति थे, जिन्हें भीमा कोरेगांव प्रकरण में गिरफ्तार किया गया था और जेल भेजा गया था। 84 वर्षीय फादर स्टैन पार्किंसन मर्ज से पीड़ित थे और गिरफ्तार किये आरोपियों में सबसे बुजुर्ग और शारीरिक रूप से कमजोर थे।

बयान में इसे जोर देकर रेखांकित किया गया है कि कोविड-19 महामारी के दौरान फादर स्टैन को जेल में रखा गया जबकि 8 अक्तूबर 2020 को उन्हें गिरफ्तार करने से पहले उनके खिलाफ जांच पूरी हो चुकी थी और उनके फरार हो जाने की कोई आशंका नहीं थी। उसके बाद उन्हें स्ट्रा व सिप्पर दिये जाने से मना किया गया। स्वास्थ्य बिगड़ने के बावजूद स्वास्थ्य आधार पर जमानत दिये जाने से मना किया जाता रहा। उनके कोविड ग्रस्त होने का पता भी बंबई उच्च न्यायालय के निर्देश पर उन्हें अस्पताल ले जाने के बाद चला।

जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान फादर स्वामी ने अदालत में कहा था कि वह ज्यादा दिन जीने वाले नहीं हैं और अपने लोगों के बीच रांची में मरना चाहते हैं। हमारी न्यायिक व्यवस्था ने उनका यह अनुरोध तक नहीं माना।
बयान में कहा गया है कि वह फादर स्टैन की मौत के लिए लापहरवाह जेलों, उदासीन अदालतों और बदनीयत जांच एजेंसियों को जिम्मेवार मानते हैं।

बयान में स्पष्ट किया गया है कि जो अभी जेलों में हैं वह उनके न्याय, उनकी सुरक्षा के लिए आवाज उठाते रहेंगे जैसा कि फादर स्टैन ने भी कहा था, “हम मूक दर्शक बने रहने से इंकार करते हैं और कोई भी कीमत चुकाने के लिए तैयार हैं।

—इंडिया न्यूज़ स्ट्रीम

राजस्थान में बेटियों की नीलामी मामले पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने लिया संज्ञान

नई दिल्ल : स्टांप पेपर पर राजस्थान की लड़कियों की नीलामी की खबरों पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने शुक्रवार...

गाजियाबाद सामूहिक दुष्कर्म मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने गठित की टीम, परिवार से करेगी मुलाकात

नई दिल्ली : गाजियाबाद में भाई के घर जन्मदिन पार्टी मनाने आई 38 वर्षीय महिला के साथ पांच लोगों ने दरिंदगी मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने संज्ञान लेते हुए...

जेल में महिला कैदियों को मिली ‘करवा चौथ’ व्रत रखने की इजाजत

लखनऊ : लखनऊ जेल में करीब 50 महिला कैदी 'करवा चौथ' के मौके पर गुरुवार को व्रत रख रही हैं। उत्तर प्रदेश के जेल मंत्री धर्मवीर प्रजापति द्वारा इस संबंध...

जम्मू-कश्मीर : पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों को जमीन का मालिकाना हक देगी केंद्र सरकार

जम्मू : केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों (डब्ल्यूपीआर) को जमीन का मालिकाना हक देने का फैसला किया है। अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद, केंद्र...

याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा : हिजाब फर्ज है, इसकी अनिवार्यता अदालतें नहीं समझ सकतीं

नई दिल्ली : याचिकाकर्ताओं ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा कि इस्लामी धार्मिक ग्रंथ के मुताबिक हिजाब पहनना 'फर्ज' (कर्तव्य) है और अदालतें इसकी अनिवार्यता अदालतें नहीं समझ सकतीं।...

बिलकिस बानो सामूहिक बलात्कार के दोषीयों की रिहाई, महिलाओं का अपमान: सामजिक कार्यकर्ता

भारत के 75वें स्वतंत्रा दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के निर्माण में महिलाओं की भूमिका पर दिया. लेकिन इसी दिन गुजरात सरकार ने 11, सामूहिक बलात्कार और हत्या...

मप्र सरकार की बुलडोजर कार्रवाई का विरोध करने वाले मुस्लिम एक्टिविस्ट पर एनएसए के तहत कार्रवाई

भोपाल : खरगोन में सांप्रदायिक हिंसा के बाद मध्य प्रदेश सरकार के बुलडोजर अभियान के खिलाफ आवाज उठाने वाले एक एक्टिविस्ट को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत गिरफ्तार किया...

यूपी : जेलों में विचाराधीन कैदियों की संख्या दोषियों की तुलना में तीन गुना अधिक

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की जेलों में विचाराधीन कैदियों की संख्या दोषियों की तुलना में तीन गुना अधिक है, जो बताता है कि जेलों में भीड़भाड़ क्यों है। जेल विभाग...

ग्रेड पे विवाद: भारी बारिश में धरने पर बैठी सस्पेंड पुलिसकर्मी की पत्नी, बच्चों के साथ आत्मदाह की दी धमकी

देहरादून : उत्तराखंड पुलिसकर्मियों के परिजनों ने प्रेस वार्ता कर ग्रेड पे 4600 किए जाने की मांग उठाई थी, जिसके बाद अनुशासनहीनता का हवाला देकर तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर...

कर्नाटक सीरियल किलिंग मामला : मुस्लिम संगठनों ने सकार पर लगाया भेदभाव का आरोप

दक्षिण कन्नड़ : मुस्लिम संगठनों ने कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में मारे गए मुस्लिम और हिंदू युवाओं के परिवारों को मुआवजा देने के मामले में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार द्वारा...

महिलाओं और लड़कियों की जिंदगी तबाह कर रही तालिबानी सरकार

यूयॉर्क : एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं और लड़कियों के मानवाधिकारों पर तालिबान की कार्रवाई से उनकी जिंदगी तबाह हो रही है। अगस्त 2021 में जब से...

लैंगिक समानता के मामले में पाकिस्तान विश्व का दूसरा सबसे खराब देश

जेनेवा: पाकिस्तान लैंगिक समानता के मामले में विश्व भर में दूसरा सबसे खराब देश माना गया है। पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, विश्व आर्थिक मंच (वल्र्ड इकोनॉमिक फोरम)...

admin

Read Previous

दिल्ली सरकार ने कोविड प्रभावित परिवारों के लिए आर्थिक मदद की घोषणा की

Read Next

20 से 25 जुलाई और 27 जुलाई से 2 अगस्त तक जेईई मेंस की परीक्षा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com