झारखंड के नए सीएम के लिए शिबू-हेमंत परिवार का विश्वास जीतने की असल अग्निपरीक्षा अभी बाकी

रांची । जैसी कि उम्मीद की जा रही थी, झारखंड में चंपई सोरेन की सरकार विधानसभा में फ्लोर टेस्ट में कामयाब रही। लेकिन, इस सरकार की बड़ी अग्निपरीक्षा विधानसभा के दो दिवसीय विशेष सत्र के समापन के बाद 7 फरवरी से शुरू होने वाली है। उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती यह होगी कि वह शिबू सोरेन-हेमंत सोरेन के परिवार के प्रत्येक वयस्क सदस्य की राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को किस तरह साध पाते हैं।

पिछले 25 सालों में पहली बार ऐसा हुआ है कि जब झामुमो की सियासत-सत्ता में शीर्ष कमान शिबू सोरेन के परिवार से इतर किसी व्यक्ति के पास गई है, लेकिन इसके बावजूद जेएमएम की असल “सत्ता” इसी परिवार के पास रहेगी। हेमंत सोरेन ने अपने माता-पिता की सहमति से परिवार के सभी सदस्यों के बीच जो संतुलन साध रखा था, उसे कायम रखना चंपई सोरेन के लिए कतई आसान नहीं।

विधानसभा के विशेष सत्र के तुरंत बाद चंपई सोरेन को मंत्रिमंडल का विस्तार करना है और इसमें भी उन्हें सबसे पहले यह देखना होगा कि वह हेमंत सोरेन के छोटे भाई बसंत सोरेन और उनकी भाभी सीता सोरेन की दावेदारियों और परिवार के झगड़े के बीच किस तरह सहमति-सुलह बना पाते हैं। सरकार में डिप्टी सीएम पद के लिए सीता सोरेन और बसंत सोरेन दोनों दावेदार हैं, लेकिन इनमें से किसी एक को ही सरकार में यह हैसियत हासिल हो पाएगी। हालांकि, इनमें से एक को डिप्टी सीएम और दूसरे को मंत्री बनाने के फॉर्मूले पर बात चल रही है, लेकिन इससे झामुमो के दूसरे विधायकों की नाराजगी का खतरा है।

दूसरी बात यह कि बसंत सोरेन और सीता सोरेन में से किसी एक को ज्यादा अहमियत मिली तो दूसरे की नाराजगी खुलकर सामने आ सकती है। सीता सोरेन जामा क्षेत्र की विधायक हैं। वह हेमंत सोरेन के दिवंगत बड़े भाई स्व. दुर्गा सोरेन की पत्नी हैं। पिछले कई सालों से उनकी शिकायत रही है कि उन्हें और उनकी बेटियों को पार्टी और परिवार में सियासी तौर पर वाजिब हक-हिस्सा नहीं मिल पा रहा है।

हेमंत सोरेन के सीएम रहते हुए भी उन्होंने कई बार अलग-अलग तरीके से अपने व्यक्तिगत शिकायत उठाए थे, लेकिन इसके बावजूद उन्हें खास तवज्जो नहीं मिली। जनवरी महीने की शुरुआत होते ही हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी और उनकी सीएम की कुर्सी जाने की आशंकाएं जैसे मंडराने लगीं, सीता सोरेन ने इस संकट को अपने लिए बारगेनिंग के “अवसर” के तौर पर भांप लिया। एक तरफ संभावित संकट को देखते हुए सियासी मोर्चे पर बैकअप प्लान में जुटे हेमंत सोरेन अपनी जगह सीएम की कुर्सी के लिए अपनी पत्नी कल्पना सोरेन का नाम आगे करने की कोशिश में जुटे थे, तो दूसरी तरफ उनकी भाभी सीता सोरेन खुले तौर पर विरोध पर उतर आईँ।

कल्पना सोरेन 30 जनवरी को पहली बार पार्टी विधायकों के साथ बैठक में मौजूद रहीं, जबकि सीता सोरेन विधायकों की बैठक से दूरी बनाते हुए दिल्ली में बैठी रहीं। उन्होंने कह दिया कि सीएम की कुर्सी पर हेमंत सोरेन की पत्नी यानी उनकी देवरानी कल्पना सोरेन से पहले उनका हक है, क्योंकि वह परिवार की बड़ी बहू हैं। उनके पति स्व. दुर्गा सोरेन ने पार्टी को खड़ा करने में बड़ी भूमिका निभाई थी। सीता सोरेन यहीं नहीं रुकीं, उन्होंने अपनी दो बेटियों को भी मौका देने की मांग रख दी।

सूत्रों के अनुसार, कल्पना सोरेन के नाम पर हेमंत सोरेन के छोटे भाई और दुमका से विधायक बसंत सोरेन की ओर से भी विरोध था। उन्होंने इसे लेकर कभी कोई बयान नहीं दिया और न ही सार्वजनिक तौर पर कभी कुछ कहा। कहते हैं कि परिवार के भीतर से हुए इसी विरोध के चलते हेमंत सोरेन ने कल्पना की बजाय चंपई सोरेन का नाम सीएम के लिए आगे किया।

पार्टी के अंदर से आई खबरों के मुताबिक, करीब 40 घंटे की जद्दोजहद के बाद जब चंपई सोरेन को राजभवन से सीएम पद पर शपथ ग्रहण का न्योता मिला तो उनके साथ डिप्टी सीएम के तौर पर हेमंत सोरेन के भाई बसंत सोरेन को भी शपथ दिलाने की तैयारी थी, लेकिन कथित तौर पर सीता सोरेन यहां भी विरोध पर उतर आईं। फिर प्लान यह बना कि सीता सोरेन को मंत्री बनाकर उन्हें “चुप” कराया जाए। वह मान गईं और वह चंपई सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में प्रमुखता के साथ नजर आईं।

अब चर्चा है कि सीता सोरेन के नाम पर हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन को एतराज है। आखिर में फैसला परिवार के मुखिया शिबू सोरेन और उनकी पत्नी रूपी सोरेन पर छोड़ा जा सकता है। राजनीतिक जानकार कहते हैं, चंपई सोरेन सीएम की कुर्सी पर बिठाए गए हैं, लेकिन, वह शिबू सोरेन यानी गुरुजी के परिवार की रिश्तेदारी से बाहर के शख्स हैं। शिबू सोरेन परिवार किसी भी तरह पार्टी और सरकार पर अपनी पकड़ बनाए रखेगा। जब तक हेमंत सोरेन जेल में रहेंगे, गुरुजी का घर पावर का सबसे बड़ा सेंटर बना रहेगा। जाहिर है, चंपई सोरेन की सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा इस परिवार और इसके सभी सदस्यों के अंतर्विरोधों के बीच संतुलन साधने की होगी।

–आईएएनएस

सुकेश चन्द्रशेखर की शिकायत पर दिल्ली एलजी ने सत्येन्द्र जैन के खिलाफ सीबीआई जांच की दी मंजूरी

नई दिल्ली । दिल्ली के उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना ने जेल में बंद ठग सुकेश चन्द्रशेखर से कथित तौर पर 10 करोड़ रुपये की उगाही करने के मामले में दिल्ली के...

दिल्ली की अदालत ने आबकारी नीति मामले में सिसोदिया, संजय सिंह की न्यायिक हिरासत 7 मार्च तक बढ़ाई

नई दिल्ली । दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को आबकारी नीति मामले में दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आप सांसद संजय सिंह की न्यायिक हिरासत पांच दिन...

लोकसभा चुनाव : बुधवार को हो सकती है भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की दूसरी बैठक

नई दिल्ली । लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के नाम पर विचार विमर्श करने के लिए भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति की दूसरी बैठक बुधवार, 6 मार्च को हो सकती...

परिवारवाद की राजनीति हाशिए पर जाने लगी है : प्रधानमंत्री मोदी

औरंगाबाद (बिहार) । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिना किसी के नाम लिए विरोधियों पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि परिवारवाद की राजनीति हाशिए पर जाने लगी है। उन्होंने इशारों-इशारों...

आर्थिक सर्वे रिपोर्ट में खुलासा, दिल्ली की प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोत्तरी

नई दिल्ली । दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने शुक्रवार को आर्थिक सर्वे पेश किया। आर्थिक सर्वे के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2023-24 के दौरान मौजूदा कीमतों पर दिल्ली का सकल...

बेंगलुरु कैफे में धमाका, पांच घायल

बेंगलुरु । बेंगलुरु के इंदिरानगर इलाके में शुक्रवार को एक कैफे में हुए विस्फोट में कम से कम पांच लोग घायल हो गए। पुलिस के मुताबिक, विस्फोट रामेश्वरम कैफे में...

दिल्ली वक्फ बोर्ड मामला: कोर्ट ने अमानतुल्ला खान की अग्रिम जमानत याचिका की खारिज

नई दिल्ली । दिल्ली की एक अदालत ने दिल्ली वक्फ बोर्ड मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आप विधायक अमानतुल्ला खान की अग्रिम जमानत याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी। राउज़ एवेन्यू...

पवार राजनीति: महायुति सरकार ने रोजगार मेले के लिए राकांपा सुप्रीमो को किया आमंत्रित

पुणे (महाराष्ट्र) । महायुति सरकार द्वारा राकांपा-सपा अध्यक्ष को उनके गृहनगर बारामती में आयोजित एक कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं करने पर विवाद पैदा होने के एक दिन बाद, शुक्रवार को...

जेएनयू में हिंसा करने वाले छात्रों की खैर नहीं, वीसी ने दी कड़ी कार्रवाई की चेतावनी

नई दिल्ली । जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी प्रशासन ने शुक्रवार को उन सभी छात्रों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कही है, जो बीती रात हुई झड़प के लिए जिम्मेदार...

देश की जनता ने ‘अबकी बार, 400 पार’ का नारा बुलंद कर दिया है : प्रधानमंत्री मोदी

भोपाल । मध्य प्रदेश को हजारों करोड़ की विकास परियोजनाओं की सौगात देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की जनता ने 'अबकी बार, 400 पार' का नारा...

पुलिस हिरासत में शाहजहां शेख की दबंग चालढाल पर मचा सियासी बवाल

नई दिल्ली । संदेशखाली हिंसा के मुख्य आरोपी टीएमसी नेता शाहजहां शेख को आखिरकार 55 दिनों के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। बंगाल पुलिस ने शाहजहां शेख...

भाजपा में शामिल हुए तेलंगाना से बीआरएस सांसद पोथुगंती रामुलु

नई दिल्ली । लोकसभा चुनाव से पहले तेलंगाना में बीआरएस को बड़ा राजनीतिक झटका लगा है। तेलंगाना से बीआरएस के वर्तमान लोकसभा सांसद पोथुगंती रामुलु ने गुरुवार को भाजपा का...

admin

Read Previous

कांग्रेस ने मुसलमानों को डिटेंशन सेंटर में भेजकर धोखा दिया : बदरुद्दीन अजमल

Read Next

तुर्की ने सीरिया में 11 कुर्द आतंकवादियों को मार गिराया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com