दलबदल पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, केवल संसद को ही कानून बनाने का अधिकार

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को पूछा कि शीर्ष अदालत के लिए कानून बनाना कैसे संभव है, जबकि यह संसद के अधिकार क्षेत्र में है। दरअसल प्रधान न्यायाधीश एन.वी. रमन्ना की अध्यक्षता वाली पीठ एक ऐसी याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें मांग की गई थी कि शीर्ष अदालत केंद्र सरकार को निर्देश दे कि वह लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के अध्यक्ष और राज्यसभा के सभापति को निर्देशित करे कि ये लोग दल-बदल करने वाले सांसदों/विधायकों के खिलाफ दायर अयोग्यता याचिकाओं पर समयबद्ध तरीके से फैसला सुनाए।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के सदस्य रंजीत मुखर्जी द्वारा दायर याचिका में अदालत से पूरे भारत में दलबदल के मामलों में निर्णय लेने की एक समान प्रक्रिया के लिए अध्यक्षों के दिशा-निर्देशों के निर्देश देने का भी आग्रह किया गया।

याचिकाकर्ता के वकील ने तर्क दिया कि याचिका दिशा-निर्देशों के लिए दायर की गई है, ताकि दलबदल के मामलों को तत्काल और समयबद्ध तरीके से कार्रवाई हो।

पीठ ने कहा, “हम कानून कैसे बना सकते हैं? उसके लिए एक अलग संस्था (संसद) है।”

पीठ ने वकील से कहा कि कर्नाटक के विधायकों की अयोग्यता से संबंधित मामले में भी यही मुद्दा उठाया गया था, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया था।

मुख्य न्यायाधीश ने कहा, “मैं कर्नाटक विधायक मामले में पहले ही अपनी राय व्यक्त कर चुका हूं। इस मामले में भी यह मुद्दा उठाया गया था और वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने भी यही तर्क दिया था।”

पीठ ने कहा कि इस मुद्दे को संसद पर फैसला करने के लिए छोड़ दिया गया था, और वकील से मामले में फैसला पढ़ने और फिर अदालत में वापस आने को कहा। शीर्ष अदालत ने मामले की अगली सुनवाई दो सप्ताह बाद तय की है।

याचिका में कहा गया है, “व्यक्तिगत या राजनीतिक लाभ के लिए ये बड़े पैमाने पर और अनियंत्रित राजनीतिक दलबदल, भारतीय लोकतंत्र की जड़ पर प्रहार करते हैं, और संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत भारतीय नागरिकों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करते हैं।”

याचिकाकर्ता ने अदालत से राजनीतिक दलबदल से संबंधित मुद्दों पर फैसला करते समय विधानसभा अध्यक्षों की ओर से दुर्भावनापूर्ण देरी की जांच करने का आग्रह किया था।

–आईएएनएस

दिल्ली की अदालत ने जैकलीन फर्नाडीस को विदेश यात्रा की दी अनुमति

नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने शुक्रवार को सुकेश चंद्रशेखर से जुड़े 200 करोड़ रुपये की जबरन वसूली के मामले में आरोपी बनी बॉलीवुड एक्ट्रेस जैकलीन फर्नाडीस को...

मोरबी त्रासदी : 1,262 पन्नों की चार्जशीट दाखिल, जयसुख पटेल मुख्य आरोपी

मोरबी : गुजरात पुलिस ने शुक्रवार को मोरबी पुल ढहने के मामले में 1,262 पन्नों की चार्जशीट पेश की और ओरेवा समूह के निदेशक जयसुख पटेल को मुख्य आरोपी बनाया।...

पूर्व एजी मुकुल रोहतगी के खिलाफ ललित मोदी की पोस्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, वकीलों को झगड़े में न करें शामिल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को आईपीएल के पूर्व अध्यक्ष ललित मोदी द्वारा भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी के खिलाफ की गई टिप्पणी के संबंध में...

रामचरितमानस पर विवादित टिप्पणी को लेकर सपा नेता मौर्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज

लखनऊ : तुलसीदास द्वारा अवधी भाषा में एक महाकाव्य रामचरितमानस पर अपनी टिप्पणी को लेकर समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। शिवेंद्र...

सुप्रीम कोर्ट ने लखीमपुर खीरी मामले में आशीष मिश्रा को 8 हफ्ते की दी अंतरिम जमानत

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को 2021 के लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में मुख्य आरोपी केंद्रीय मंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को आठ हफ्ते की...

18 साल से पहले की शादी रद्द नहीं की जा सकती: कर्नाटक हाईकोर्ट

बेंगलुरू : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने फैसला सुनाया है कि 18 साल की उम्र से पहले की युवती की शादी को रद्द नहीं किया जा सकता है। पीठ ने इस...

प्रवीण नेतारू हत्याकांड में एनआईए ने 20 सदस्यों के खिलाफ दायर की चार्जशीट

नई दिल्ली : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पिछले साल कर्नाटक में भाजपा के युवा नेता प्रवीण नेतरू की हत्या के मामले में अब प्रतिबंधित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई)...

दिल्ली हाईकोर्ट ने प्रणय रॉय,व राधिका रॉय के खिलाफ लुकआउट सकरुलर पर सीबीआई से की पूछताछ

नई दिल्ली : दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से दो जून, 2017 और 19 अगस्त, 2019 को दर्ज दो प्राथमिकियों के मद्देनजर 2019 में पत्रकार...

पत्रकारों को जांच एजेंसियों को अपने स्रोत का खुलासा करने से छूट नहीं : अदालत

नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने कहा है कि जांच एजेंसियों को अपने स्रोत के बारे में बताने के लिए पत्रकारों को कोई छूट नहीं है। खासकर तब...

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, सेवा विवाद मामले को बड़ी बेंच को किया जाए रेफर

नई दिल्ली : केंद्र ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से प्रशासनिक सेवाओं पर नियंत्रण के मुद्दे पर जीएनसीटीडी बनाम भारत संघ मामले में 2018 के फैसले को बड़ी बेंच को...

सुप्रीम कोर्ट की दखल से 18 महीने बाद हुआ मुकदमा दर्ज

नोएडा : दिल्ली में रहने वाले एक बुजुर्ग के साथ करीब 18 महीने पहले नोएडा के सेक्टर 37 में कार सवार लोगों ने उन्हें अपनी कार में बिठाकर मारपीट की...

दिल्ली हाईकोर्ट ने उन्नाव रेप के दोषी कुलदीप सेंगर को दी अंतरिम जमानत

नई दिल्ली : दिल्ली हाईकोर्ट ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के पूर्व भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को अंतरिम जमानत दे दी। सेंगर को 2017 में उन्नाव में एक नाबालिग...

admin

Read Previous

मुकुल गोयल उत्तर प्रदेश के नए पुलिस महानिदेशक बने

Read Next

दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान में एक सप्ताह तक भीषण गर्मी की आशंका

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com