भारत ने यूएनएससी पर आतंकवाद से निपटने में विफलता के लिए ‘राजनीतिक विचार’ का आरोप लगाया

मुंबई : भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) पर सीधे तौर पर ‘राजनीतिक विचार’ करने का आरोप लगाया, जो वैश्विक निकाय को आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने से रोकता है।

जयशंकर ने कहा, जब इन आतंकवादियों पर मुकदमा चलाने की बात आती है, तो सुरक्षा परिषद कुछ मामलों में राजनीतिक कारणों से कार्रवाई करने में असमर्थ रही है। यह हमारी सामूहिक विश्वसनीयता और हमारे सामूहिक हितों को कमजोर करता है। वह मुंबई में यूएनएससी की काउंटर टेररिज्म कमेटी की अनौपचारिक ब्रीफिंग में बोल रहे थे- 26/11, 2008 के मुंबई आतंकी हमलों की आगामी 14वीं बरसी से ठीक एक महीने पहले।

जयशंकर ने कहा कि, उस हमले में (10) आतंकवादियों में से एक को जिंदा पकड़ लिया गया था। भारत में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा मुकदमा चलाया गया और दोषी ठहराया गया, 26/11 के आतंकी तबाही के प्रमुख साजिशकर्ता और योजनाकार संरक्षित और अप्रकाशित हैं। किसी भी देश का नाम लिए बिना विदेश मंत्री ने कहा कि- पीड़ितों के लिए हमारी वास्तविक श्रद्धांजलि आतंकवाद के खतरे का मुकाबला करने और उसे खत्म करने के लिए खुद को फिर से समर्पित करना होगा..और यह मजबूत ²ढ़ संकल्प और संयुक्त कार्रवाई द्वारा, क्योंकि आतंकवाद अंतर्राष्ट्रीय शांति, सुरक्षा और पूरी मानवता के लिए एक गंभीर खतरा है।

जयशंकर ने कहा- हमें इस संकट को दूर करने के लिए अपने राजनीतिक मतभेदों से ऊपर उठना चाहिए। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई सभी मोचरें, सभी स्थितियों और सभी जगहों पर लड़ी जानी चाहिए। हम अपने प्रयासों में कमी नहीं कर सकते हैं। जैसा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा, आतंकवाद शुद्ध बुराई है जिसके साथ हम कभी समझौता नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा कि यह अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सभी जिम्मेदार सदस्यों पर निर्भर है कि वे दुनिया भर में हर आतंकी पीड़ित के आघात को याद रखें और आतंकवाद के अपराधियों को न्याय दिलाने के प्रयासों में लगे रहें, और समग्र और सामूहिक रूप से आतंकी खतरे से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा बहुपक्षीय प्रयासों को बढ़ावा देना। हमें यह संदेश देना चाहिए कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय आतंकवादियों को जवाबदेह ठहराने और न्याय देने में कभी हार नहीं मानेगा..26/11 को कभी नहीं भुलाया जा सकेगा।

जयशंकर ने अन्य निकायों के साथ संयुक्त राष्ट्र के समन्वय के साथ, आतंक से निपटने के लिए पांच सूत्री सूत्र प्रस्तुत किया। इनमें ‘आतंकवाद के वित्तपोषण’ को लक्षित करना और आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के साथ एफएटीएफ और एग्मोंट समूह जैसे अन्य लोगों के साथ हाथ मिलाना, यूएनएससी प्रतिबंधों के पारदर्शी और प्रभावी कामकाज को सुनिश्चित करना शामिल है। उन्होंने आग्रह किया, आतंकवादी समूहों को सूचीबद्ध करने के लिए उद्देश्य और साक्ष्य-आधारित प्रस्तावों, विशेष रूप से जो वित्तीय संसाधनों तक उनकी पहुंच को रोकते हैं, उनके माध्यम से देखा जाना चाहिए।

जयशंकर ने आतंकवादियों और उनके प्रायोजकों के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और ठोस कार्रवाई की मांग की, उनके सुरक्षित पनाहगाहों, प्रशिक्षण मैदानों, वित्तीय और वैचारिक और राजनीतिक समर्थन संरचनाओं को तोड़कर आतंकी प्लेग को खत्म करने के लिए। उन्होंने यह भी कहा कि ‘अंतर्राष्ट्रीय संगठित अपराध, अवैध ड्रग्स और हथियारों की तस्करी’ के साथ आतंकवाद के गठजोड़ को तोड़ने के लिए बहुपक्षीय प्रयास किए जाने चाहिए।

विदेश मंत्री ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में, आतंकवादी समूहों ने धन जुटाने या अपनी गतिविधियों के वित्तपोषण के लिए अनाम तकनीकों जैसे ‘आभासी मुद्राओं’ का दोहन करके अपने वित्त पोषण विभागों में विविधता लाई है, जिनमें से अधिक पर शनिवार को दिल्ली में विचार-विमर्श किया जाएगा।

उन्होंने 26/11 के आतंकी हमलों की यूएनएससी की निंदा को याद किया- परिषद के सदस्य आतंकवाद के इन निंदनीय कृत्यों के अपराधियों, आयोजकों, वित्तपोषकों और प्रायोजकों को न्याय के कटघरे में लाने की आवश्यकता को रेखांकित करते हैं और सभी राज्यों से इस संबंध में भारतीय अधिकारियों के साथ सहयोग करने का आग्रह करते हैं। आतंकवाद के सभी कृत्य आपराधिक और अनुचित हैं, चाहे उनकी प्रेरणा कुछ भी हो।

मुंबई में आज के बैठक के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सदस्य संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की विशेष बैठक के लिए होटल ताजमहल पैलेस पहुंचे। इस दौरान उन्होंने होटल में 26/11 स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की। वर्तमान यूएनएससी अध्यक्ष माइकल मौसा एडमो जो गैबॉन के विदेश मंत्री, संयुक्त राष्ट्र के अवर सचिव भी हैं, संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज, मंत्री, यूएनएससी सदस्य देशों के प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख और दुनिया भर के नागरिक समाज के हितधारक मौजूद रहे।

–आईएएनएस

दिल्ली और चंडीगढ़ में अपने देश का वीजा प्रदान करने की प्रकिया को कनाडा बनाएगा और सुव्यवस्थित

नई दिल्ली : कनाडा दिल्ली व चंडीगढ़ में अपने देश के लिए वीजा प्रदान करने की प्रक्रिया को और मजबूत बनाएगा। कनाडा में काम करने और अध्ययन करने के इच्छुक...

भारत को सालाना 1,000 से अधिक पायलटों की जरूरत है, पर ट्रेनिंग इंफ्रास्ट्रक्चर की है कमी

नई दिल्ली : उड्डयन क्षेत्र में विकास को देखते हुए उम्मीद है कि भारत को अगले पांच वर्षो में प्रतिवर्ष 1,000 से अधिक पायलटों की जरूरत होगी। हालांकि, विशेषज्ञों ने...

यूपी के संभल में पुलिस सुरक्षा में घोड़ी पर सवार हुआ दलित दूल्हा

संभल (उत्तर प्रदेश) : उत्तर प्रदेश के संभल में घोड़े पर सवार दलित राम किशन की बारात को पुलिस ने सुरक्षा दी, तब जाकर दलित जोड़े की शादी संपन्न हुई।...

महिला ने लंदन में रह रहे पति से बेटी वापस पाने के लिए पीएम से लगाई गुहार

मुजफ्फरनगर (उप्र) : मुजफ्फरनगर की एक महिला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर लंदन में रह रहे उसके पति से अपनी बेटी को वापस पाने की गुहार लगाई है।...

कर्नाटक : गुस्साएं ग्रामीणों ने फाड़े भाजपा विधायक के कपड़े, दस गिरफ्तार

चिक्कमगलूर (कर्नाटक), 21 नवंबर (आईएएनएस)| कर्नाटक के चिक्कमगलूर जिले में हाथी के हमले में एक महिला की मौत होने के मामले में गुस्साएं लोगों ने मुदिगेरे विधानसभा क्षेत्र के भाजपा...

शिया मौलवियों ने मुस्लिम स्थलों के नाम बदलने के मामले में पीएम से की हस्तक्षेप की मांग

लखनऊ : शिया धर्मगुरु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर लखनऊ में मुस्लिम ऐतिहासिक और विरासत स्थलों के मूल नामों को बहाल करने की मांग करेंगे। शिया धर्मगुरु मोहम्मद मिर्जा...

बिहार में शराबियों की पहचान बताएगा आधार कार्ड, बन रहा डेटा बेस

पटना : बिहार में शराबियों और शराब कारोबारियों पर अंकुश लगाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। इस बीच, सरकार अब शराबियों की पहचान के लिए आधार कार्ड...

‘अगले दशक में दोगुनी होगी बेंगलुरु शहर की आबादी, हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्च र पर होगा दबाव’

बेंगलुरु : बृहत बेंगलुरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) के विशेष आयुक्त डॉ. त्रिलोक चंद्रा ने गुरुवार को कहा कि बेंगलुरु की 1.3 करोड़ की आबादी अगले एक दशक में दोगुनी होकर...

कंप्यूटर इंजीनियर खेती में आजमा रहा हाथ

शिवपुरी : कुछ लोगों को नौकरी रास नहीं आती और वे नया कुछ करने की ठान बैठते हैं, ऐसा ही मामला मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले का है, जहां के...

चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनावों के लिए स्थापित किया बहुस्तरीय निगरानी तंत्र

नई दिल्ली : चुनाव आयोग ने राज्य विधानसभा चुनावों में धनबल के इस्तेमाल को रोकने के लिए एक बहुस्तरीय निगरानी तंत्र स्थापित किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि इसके...

मेवाड़ के राजकुमार ने पीएम से कहा, विवादित स्थल पर जी 20 की बैठक के लिए लेनी चाहिए थी अनुमति

जयपुर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्री एस. जयशंकर और जी. किशन रेड्डी को संबोधित एक पत्र में मेवाड़ के राजकुमार विश्वराज सिंह ने कहा कि विवादित स्थल पर...

बस से लटके विद्यार्थियों का वीडियो वायरल

नोएडा : नोएडा में बस के ऊपर सफर कर रहे विद्यार्थियों का वीडियो सामने आया है। इसमें विद्यार्थी बस की छत पर बैठे दिखाई दे रहे हैं। वे बस पर...

admin

Read Previous

राजस्थान में बेटियों की नीलामी मामले पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने लिया संज्ञान

Read Next

राजनीति में ‘भक्ति’ तानाशाही की राह: खड़गे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com