सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने चुनावी बांड योजना 2018 को करार दिया ‘असंवैधानिक’

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संविधान पीठ ने गुरुवार को सर्वसम्मति से फैसले में चुनावी बांड योजना 2018 को असंवैधानिक करार दिया।

भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) डी.वाई.चंद्रचूड़ द्वारा लिखे गए फैसले में कहा गया है कि किसी राजनीतिक दल को वित्तीय योगदान संभावित रूप से बदले की व्यवस्था का कारण बन सकता है। चंद्रचूड़ ने कहा कि राजनीतिक दलों के योगदान को गुमनाम करके चुनावी बांड योजना संविधान के अनुच्छेद 19(1)(ए) के तहत प्रदत्त मतदाता की सूचना के अधिकार का उल्लंघन करती है।

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) को चुनावी बांड जारी करने पर तुरंत रोक लगाने के लिए कहते हुए, सीजेआई चंद्रचूड़ ने भारतीय चुनाव आयोग (ईसीआई) को 13 मार्च तक अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर उन राजनीतिक दलों का विवरण प्रकाशित करने का आदेश दिया, जिन्होंने चुनावी बांड के माध्यम से योगदान प्राप्त किया है।

सीजेआई चंद्रचूड़ की राय से जस्टिस बी.आर. गवई, जस्टिस जे.बी. पादरीवाला और जस्टिस मनोज मिश्रा ने ने सहमति जताते हुए कहा कि चुनावी प्रक्रिया में काले धन पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से मतदाताओं के सूचना के अधिकार के उल्लंघन को उचित नहीं ठहराया जा सकता है।

“अनुच्छेद 19(1)(ए) के तहत सूचना का अधिकार केवल अनुच्छेद 19(2) में निर्धारित आधार के आधार पर प्रतिबंधित किया जा सकता है। शीर्ष अदालत ने कहा, ”काले धन पर अंकुश लगाने का उद्देश्य अनुच्छेद 19(2) के किसी भी आधार पर नहीं मिलता है।”

इसके अलावा, इसमें कहा गया है कि चुनावी वित्तपोषण में चुनावी बांड योजना “काले धन पर अंकुश लगाने का एकमात्र साधन नहीं है” और अन्य विकल्प भी हैं, जो इस उद्देश्य को काफी हद तक पूरा करते हैं और चुनावी बांड के प्रभाव की तुलना में सूचना के अधिकार को न्यूनतम रूप से प्रभावित करते हैं।

यह कहते हुए कि राजनीतिक योगदान योगदानकर्ता को मेज पर एक सीट देता है, यानी, यह नीति निर्माताओं तक पहुंच बढ़ाता है और यह पहुंच नीति निर्माण पर प्रभाव में भी तब्दील हो जाती है।

इसमें कहा गया है, ”इस बात की भी संभावना है कि किसी राजनीतिक दल को वित्तीय योगदान देने से पैसे और राजनीति के बीच बंद संबंध के कारण बदले की व्यवस्था हो जाएगी। क्विड प्रो क्वो व्यवस्था नीति में बदलाव लाने या सत्ता में राजनीतिक दल को वित्तीय योगदान देने वाले व्यक्ति को लाइसेंस देने के रूप में हो सकती है। चुनावी बांड योजना और विवादित प्रावधान इस हद तक कि वे चुनावी बांड के माध्यम से योगदान को अज्ञात करके मतदाता की सूचना के अधिकार का उल्लंघन करते हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कंपनियों द्वारा असीमित राजनीतिक योगदान की अनुमति देने को “स्पष्ट रूप से मनमाना” माना और कहा कि कंपनियों द्वारा किया गया योगदान विशुद्ध रूप से व्यापारिक लेनदेन है, जो बदले में लाभ हासिल करने के इरादे से किया गया है।

संक्षेप में, शीर्ष अदालत ने वित्त अधिनियम, 2017 द्वारा पेश किए गए आयकर अधिनियम में संशोधन, कंपनी अधिनियम, 2013 में संशोधन और जन प्रतिनिधित्व अधिनियम में संशोधन को असंवैधानिक घोषित कर दिया।

न्यायमूर्ति संजीव खन्ना ने एक अलग लेकिन सहमति वाला फैसला लिखा। खन्ना ने कहा, “मैंने आनुपातिकता मानकों को भी लागू किया है लेकिन थोड़े अलग बदलावों के साथ। मेरे निष्कर्ष भी वही हैं।,”

फैसले को ”हितैषी” बताते हुए वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि इस फैसले का देश की राजनीति पर बहुत महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा। नवंबर 2023 में, सीजेआई चंद्रचूड़ के नेतृत्व वाली संविधान पीठ ने लगातार तीन दिनों तक दलीलें सुनने के बाद चुनावी बांड योजना की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

शीर्ष अदालत के समक्ष याचिकाकर्ताओं ने तर्क दिया था कि चुनावी बांड योजना अनुच्छेद 19 (1) के तहत नागरिकों के सूचना के मौलिक अधिकार का उल्लंघन करती है और यह पिछले दरवाजे से लॉबिंग को सक्षम बनाती है और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देती है व विपक्ष में राजनीतिक दलों के लिए समान अवसर को समाप्त करती है।

–आईएएनएस

प्रचार के डीप फेक वीडियो को लेकर आमिर खान ने कांग्रेस के खिलाफ दर्ज कराई एफआईआर

मुंबई । पिछली बार 'लाल सिंह चड्ढा' में नजर आने वाले बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान ने एक राजनीतिक दल के फर्जी विज्ञापन के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। एक्टर ने...

तीन बार रेकी, पांच बार फायरिंग, सलमान खान मामले में मुंबई पुलिस का बड़ा खुलासा

मुंबई । सलमान खान फायरिंग मामले में ज्वाइंट कमिश्नर लख्मी गौतम ने प्रेसवार्ता कर अब तक की जांच के बारे में बड़ी जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि मामले को...

पतंजलि के भ्रामक विज्ञापन: बाबा रामदेव व आचार्य बालकृष्ण ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष मांगी मौखिक माफी

नई दिल्ली । बाबा रामदेव और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के प्रबंध निदेशक आचार्य बालकृष्ण ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के समक्ष मौखिक रूप से बिना शर्त माफी मांगी। पीठ ने...

गिरफ्तारी के खिलाफ केजरीवाल की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई

नई दिल्ली । दिल्ली शराब नीति मामले में ईडी द्वारा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी और रिमांड के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 15 अप्रैल यानी सोमवार को सुनवाई करेगा।...

दिल्ली हाई कोर्ट ने जेएनयू की छात्रा के निष्कासन पर लगाई रोक

नई दिल्ली । दिल्ली उच्च न्यायालय ने हाल ही में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की एक पीएचडी छात्रा के निष्कासन आदेश पर यह कहते हुए रोक लगा दी कि संस्थान...

दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे बीजेपी कार्यकर्ता हिरासत में

नई दिल्ली । नई आबकारी नीति मामले में गिरफ्तार हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इस्तीफे की मांग को लेकर दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर प्रदर्शन कर रहे बीजेपी...

कलकत्ता हाईकोर्ट ने भूपतिनगर में दर्ज एफआईआर पर पुलिस को एनआईए कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई से रोका

कोलकाता । कलकत्ता हाईकोर्ट ने बुधवार को पश्चिम बंगाल पुलिस को निर्देश दिया कि वह राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के कर्मचारियों के खिलाफ पूर्वी मिदनापुर जिले के भूपतिनगर पुलिस स्टेशन...

उत्पाद शुल्क नीति मामला : सीबीआई ने अदालत को बताया, के. कविता से जेल में पहले ही पूछताछ की जा चुकी है

नई दिल्ली । केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बुधवार को दिल्ली की एक अदालत को बताया कि भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) की तेलंगाना विधान परिषद सदस्य के. कविता से कथित...

नोएडा में नकली तंबाकू फैक्ट्री का भंडाफोड़, 6 गिरफ्तार

नोएडा । नोएडा पुलिस ने नकली तंबाकू बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़ करते हुए 6 लोगों को गिरफ्तार किया है और तकरीबन 10,000 किलो नकली तंबाकू बरामद किया है जो...

चुनाव आयोग ने नायडू के खिलाफ टिप्पणी के लिए आंध्र प्रदेश के सीएम को भेजा नोटिस

अमरावती । आंध्र प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) ने रविवार को मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी को नोटिस जारी किया। सीएम ने रैली में अपने भाषणों के दौरान तेलुगु...

‘1984 सिख दंगा तत्कालीन सरकार द्वारा था प्रायोजित, मोदी राज में मिला इंसाफ’

नई दिल्ली । कांग्रेस के शासन काल में हुए 1984 के सिख विरोधी दंगों का दर्द अब भी सिख समाज महसूस करता है। उन दंगों का दंश झेलने वाले परिवारों...

आबकारी नीति मामले में मनीष सिसोदिया की न्यायिक हिरासत 18 अप्रैल तक बढ़ी

नई दिल्ली । दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को कथित आबकारी नीति घोटाले से संबद्ध एक धन शौधन मामले में आम आदमी पार्टी (आप) के नेता मनीष सिसोदिया की...

admin

Read Previous

चुनावी बांड योजना मतदाताओं के सूचना के अधिकार का उल्लंघन करती है: सीजेआई चंद्रचूड़

Read Next

रेवाड़ी में कांग्रेस पर बरसे मोदी, कहा- ‘भगवान राम को काल्पनिक मानने वाले अब जय सिया राम बोलने लगे हैं’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com