आदित्य-एल1 ने भरी सूर्य की ओर उड़ान

श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश) : सूर्य का अध्ययन करने के लिए आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान शनिवार सुबह भारत के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण राकेट-सी57 (पीएसएलवी-सी57) के साथ रवाना हुआ। ए

पीएसएलवी-एक्सएल संस्करण के रॉकेट ने 1,480.7 किलोग्राम वजनी आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान के साथ उड़ान भरी, जो सौर गतिविधियों का अध्ययन करेगा।

321 टन वजनी 44.4 मीटर लंबा पीएसएलवी-सी57 रॉकेट सुबह 11.50 बजे सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से आदित्य-एल1 के साथ रवाना हुआ।

अपनी पूंछ पर एक मोटी नारंगी लौ के साथ धीरे-धीरे आसमान की ओर बढ़ते हुए, रॉकेट ने गड़गड़ाहट के साथ गति प्राप्त की और एक मोटा गुबार छोड़ते हुए ऊपर और ऊपर चला गया।

दिलचस्प बात यह है कि यह मिशन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के लिए सबसे लंबे मिशनों में से एक है।

उड़ान भरने के लगभग 63 मिनट बाद, रॉकेट आदित्य-एल1 को बाहर निकाल देगा और पूरा मिशन लगभग 73 मिनट पर चौथे चरण के निष्क्रिय होने के साथ समाप्त हो जाएगा।

विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) के निदेशक डॉ. एस. उन्नीकृष्णन ने लंबी उड़ान अवधि के बारे में आईएएनएस को बताया, ”पहली बार जलने के बाद प्राकृतिक रूप से होने वाले पेरिगी के तर्क को प्राप्त करने के लिए एक लंबी तटरेखा होती है।” उन्‍होने कहा, हमें उपग्रह की पेरिगी के तर्क को पूरा करना होगा। इसके लिए हम चौथे चरण के लिए दो बर्न रणनीतियों का पालन कर रहे हैं।

उड़ान योजना में रॉकेट के चौथे चरण को दो बार बंद करना शामिल है, इससे इसे लगभग 30 मिनट तक तट पर रहने की अनुमति मिलती है। पहली कट ऑफ के बाद 26 मिनट और दूसरी कट ऑफ के लगभग 3 मिनट बाद।

प्रारंभ में, आदित्य-एल1 को पृथ्वी की निचली कक्षा (एलईओ) में उत्सर्जित किया जाएगा। तब कक्षा अण्डाकार होगी। जैसे ही अंतरिक्ष यान सूर्य-पृथ्वी लैग्रेंज प्‍वॉइंट (एल1) की ओर यात्रा करेगा, यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र (एसओआई) से बाहर निकल जाएगा।

एसओआई से बाहर निकलने के बाद, क्रूज़ चरण शुरू हो जाएगा और बाद में अंतरिक्ष यान को एल 1 के चारों ओर एक बड़ी प्रभामंडल कक्षा में इंजेक्ट किया जाएगा, वह बिंदु जहां सूर्य और पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण खिंचाव बराबर होगा।

पृथ्वी से लगभग 1.5 मिलियन किमी की दूरी तय करने में आदित्य-एल1 को लगभग चार महीने लगेंगे।

गौरतलब है कि पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की दूरी लगभग 3,84,000 किमी है।

इसरो ने कहा, “एल1 बिंदु के चारों ओर प्रभामंडल कक्षा में रखे गए उपग्रह को बिना किसी ग्रहण के लगातार सूर्य को देखने का प्रमुख लाभ मिलता है। इससे वास्तविक समय में सौर गतिविधियों और अंतरिक्ष मौसम पर इसके प्रभाव को देखने का अधिक लाभ मिलेगा।”

आदित्य-एल1 मिशन के वैज्ञानिक उद्देश्यों में कोरोनल हीटिंग, सौर पवन त्वरण, कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई), सौर वातावरण की गतिशीलता और तापमान अनिसोट्रॉपी का अध्ययन शामिल है।

गौरतलब है कि जिस पीएसएलवी रॉकेट से प्रक्षेपण किया गया, वह चार चरणों वाले इंजन का व्यययोग्य रॉकेट है, जो ठोस और तरल ईंधन द्वारा संचालित होता है, इसमें पहले चरण में उच्च जोर देने के लिए छह बूस्टर मोटर्स लगे होते हैं।

शनिवार को उड़ान भरने वाला रॉकेट लंबे स्ट्रैप-ऑन मोटर्स के साथ एक्सएल संस्करण है।

दिलचस्प बात यह है कि एक्सएल वेरिएंट रॉकेट का इस्तेमाल पहली बार भारत के पहले इंटरप्लेनेटरी मिशन – चंद्रयान -1 या चंद्रमा मिशन -1 के लिए किया गया था। बाद में रॉकेट का उपयोग चंद्रयान-2 और मंगल मिशन/मार्स ऑर्बिटर मिशन के लिए किया गया।

शनिवार का पीएसएलवी-एक्सएल संस्करण 25वीं बार किसी अन्य अंतरग्रहीय मिशन के लिए उड़ान भरा।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया, आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान विद्युत चुम्बकीय और कण व चुंबकीय क्षेत्र डिटेक्टरों का उपयोग करके प्रकाशमंडल, क्रोमोस्फीयर और सूर्य की सबसे बाहरी परतों (कोरोना) का निरीक्षण करने के लिए सात पेलोड ले गया है।

इसरो ने कहा, “चार पेलोड सीधे सूर्य को देखेंगे और शेष तीन लैग्रेंज बिंदु एल1 पर कणों और क्षेत्रों का इन-सीटू अध्ययन करेंगे।“

अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा, उम्मीद है कि आदित्य-एल1 के सात पेलोड कोरोनल हीटिंग, कोरोनल मास इजेक्शन, प्री-फ्लेयर और फ्लेयर गतिविधियों और उनकी विशेषताओं, अंतरिक्ष मौसम की गतिशीलता, कण और क्षेत्रों के प्रसार और अन्य की समस्या को समझने के लिए सबसे महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।

इसरो ने कहा कि आदित्य-एल1 मिशन के प्रमुख उद्देश्य सौर ऊपरी वायुमंडलीय (क्रोमोस्फीयर और कोरोना) गतिशीलता का अध्ययन, क्रोमोस्फेरिक और कोरोनल हीटिंग का अध्ययन, आंशिक रूप से आयनित प्लाज्मा की भौतिकी, और कोरोनल द्रव्यमान इजेक्शन की शुरुआत का अध्‍ययन करना है।

यह सूर्य से कण गतिशीलता के अध्ययन के लिए डेटा प्रदान करने वाले इन-सीटू कण और प्लाज्मा वातावरण का भी निरीक्षण करेगा।

अन्य उद्देश्य हैं सौर कोरोना और उसके ताप तंत्र की भौतिकी, कोरोनल और कोरोनल लूप प्लाज्मा का निदान, तापमान, वेग और घनत्व, विकास, गतिशीलता और कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) की उत्पत्ति, होने वाली प्रक्रियाओं के अनुक्रम की पहचान करना।

इसरो ने कहा कि अनुमानतः 4.5 अरब वर्ष पुराना सूर्य हाइड्रोजन और हीलियम गैसों की एक गर्म चमकदार गेंद है और सौर मंडल के लिए ऊर्जा का स्रोत है।

इसमें कहा गया है, “सूर्य का गुरुत्वाकर्षण सौर मंडल की सभी वस्तुओं को एक साथ बांधे रखता है। सूर्य के मध्य क्षेत्र, जिसे ‘कोर’ के रूप में जाना जाता है, में तापमान 15 मिलियन डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है।”

इस तापमान पर, कोर में परमाणु संलयन नामक एक प्रक्रिया होती है, जो सूर्य को शक्ति प्रदान करती है। इसरो ने कहा कि सूर्य की दृश्य सतह जिसे फोटोस्फीयर के रूप में जाना जाता है, अपेक्षाकृत ठंडी है और इसका तापमान लगभग 5,500 डिग्री सेल्सियस है।

सूर्य पृृृथ्‍वी का निकटतम तारा है और इसलिए इसका अध्ययन अन्य तारों की तुलना में अधिक विस्तार से किया जा सकता है। इसरो ने कहा, सूर्य का अध्ययन करके, हम अपनी आकाशगंगा के तारों के साथ-साथ विभिन्न अन्य आकाशगंगाओं के तारों के बारे में भी बहुत कुछ जान सकते हैं।

सूर्य एक अत्यंत गतिशील तारा है, जो हम जो देखते हैं उससे कहीं अधिक फैला हुआ है। यह कई विस्फोटक घटनाओं को दर्शाता है और सौर मंडल में भारी मात्रा में ऊर्जा छोड़ता है। यदि ऐसी विस्फोटक सौर घटना को पृथ्वी की ओर निर्देशित किया जाता है, तो यह पृथ्वी के निकट अंतरिक्ष वातावरण में विभिन्न प्रकार की गड़बड़ी पैदा कर सकता है।

विभिन्न अंतरिक्ष यान और संचार प्रणालियाँ ऐसी गड़बड़ी से ग्रस्त हैं और इसलिए पहले से ही सुधारात्मक उपाय करने के लिए ऐसी घटनाओं की प्रारंभिक चेतावनी महत्वपूर्ण है।

इनके अलावा, यदि कोई अंतरिक्ष यात्री सीधे ऐसी विस्फोटक घटनाओं के संपर्क में आता है, तो वह खतरे में पड़ जाएगा। सूर्य पर विभिन्न तापीय और चुंबकीय घटनाएं अत्यधिक प्रकृति की हैं।

इस प्रकार, सूर्य उन घटनाओं को समझने के लिए एक अच्छी प्राकृतिक प्रयोगशाला भी प्रदान करता है, जिनका सीधे प्रयोगशाला में अध्ययन नहीं किया जा सकता है।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि आदित्य-एल1 द्वारा ले जाए गए सभी सात पेलोड देश में विभिन्न प्रयोगशालाओं द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किए गए हैं।

विजिबल एमिशन लाइन कोरोनाग्राफ (वीईएलसी) उपकरण भारतीय खगोल भौतिकी संस्थान, बेंगलुरु में विकसित किया गया है; इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स, पुणे में सोलर अल्ट्रावॉयलेट इमेजिंग टेलीस्कोप (SUIT) उपकरण; भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला, अहमदाबाद में आदित्य सौर पवन कण प्रयोग (एएसपीईएक्स); अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला, विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र, तिरुवनंतपुरम में आदित्य (पीएपीए) के लिए प्लाज्मा विश्लेषक पैकेज; यू आर राव सैटेलाइट सेंटर, बेंगलुरु में सोलर लो एनर्जी एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर और हाई एनर्जी एल1 ऑर्बिटिंग एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर पेलोड और इलेक्ट्रो ऑप्टिक्स सिस्टम, बेंगलुरु की प्रयोगशाला में विकसित किया गया है।

आईएएनएस

शहबाज शरीफ होंगे पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री

इस्लामाबाद । पीएमएल (एन) अध्यक्ष शहबाज शरीफ रविवार को पाकिस्तान के 24वें प्रधानमंत्री चुने गए। डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, नेशनल असेंबली के स्पीकर सरदार अयाज सादिक ने घोषणा की...

बंगाल की प्रगति पिछड़ गई, मेरी सरकार उसकी भरपाई की कर रही कोशिश : पीएम मोदी

कोलकाता । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि ढेर सारी संभावनाएं होने के बावजूद पश्चिम बंगाल आजादी के बाद से पिछड़ा हुआ है और उनकी सरकार 10 वर्षों...

झामुमो-कांग्रेस पर पीएम मोदी का जोरदार हमला, बोले- इन्होंने लूटा है, हम लौटाएंगे, ये हमारी गारंटी है

धनबाद । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को झारखंड की झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन सरकार पर जोरदार हमला बोला। धनबाद में आयोजित भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की 'विजय संकल्प रैली' को संबोधित...

गाजा में फिलीस्तीनियों की मौत का आंकड़ा 30 हजार के करीब: मंत्रालय

गाजा । गाजा पट्टी में फिलीस्तीनियों की मौत का आंकड़ा बढ़कर 29,954 हो गया है। इजरायली सेना ने पिछले 24 घंटों में 76 लोगों की जान ले ली। यह जानकारी...

विज्ञान और तकनीक को लेकर पीएम मोदी की अनोखी सोच

नई दिल्ली । आज राष्ट्रीय विज्ञान दिवस (नेशनल साइंस डे) है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट एक्स पर इसको लेकर पोस्ट लिखा है। उन्होंने इसमें...

गगनयान मिशन के लिए चयनित प्रशांत नायर के बारे में जानते हैं आप? जिन्हें मिलेगा अंतरिक्ष में जाने का मौका

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गगनयान मिशन को गति देने के लिए मंगलवार को केरल पहुंचे। जहां उन्होंने विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र से अंतरिक्ष में जाने के लिए चयनित...

अब हम बड़े सपने देखते हैं, जिनको दिन-रात पूरा करते हैं : प्रधानमंत्री

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 41 हजार करोड़ की 2000 से अधिक रेल परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया। उनके इस कार्यक्रम में 2021 जगहों से 40...

2002 में आज ही के दिन शुरू हुई थी पीएम मोदी की चुनावी यात्रा

नई दिल्ली । ठीक 22 साल पहले आज ही के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चुनावी सफर शुरू हुआ था। 24 फरवरी 2002 को पीएम मोदी ने पहली बार विधायक...

जम्मू में पीएम मोदी ने 32 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का किया उद्घाटन

जम्मू । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू-कश्मीर की अपनी एक दिवसीय यात्रा पर मंगलवार को यहां पहुंचे। उन्होंने 32 हजार करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं की शुरुआत की...

शिक्षा के क्षेत्र में विकास का नया कीर्तिमान रचेगा भारत, पीएम मोदी करेंगे इसकी शुरुआत

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश भर में शिक्षा और कौशल बुनियादी ढांचे के उन्नयन और विकास की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाने वाले हैं। देश में शिक्षा...

गाजा में इजरायली हमले में 40 फिलिस्तीनी मारे गए

गाजा । मध्य गाजा पट्टी में घरों को निशाना बनाकर किए गए इजरायली हवाई हमलों में कम से कम 40 फिलिस्तीनी मारे गए और कई अन्य घायल हो गए। यह...

370 सीट जीतकर भाजपा के हर कार्यकर्ता डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान को देंगे श्रद्धांजलि : पीएम मोदी

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को भाजपा राष्ट्रीय पदाधिकारी की बैठक को संबोधित करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं से आगामी लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करने के लिए...

admin

Read Previous

राष्‍ट्रीय महिला आयोग ने राजस्थान में महिला की निर्वस्‍त्र परेड पर मांगी रिपोर्ट

Read Next

चुनावी साल में सौगातें लेकर भाजपा भी मैदान में, फिर चर्चा में रेवड़ी पॉलिटिक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com