जीआई टैग मिलने से देश दुनिया में गौरव बढ़ाएगा पूर्वांचल का गवरजीत आम

गोरखपुर,: उत्तर प्रदेश सरकार ने जिन 15 कृषि उत्पादों के जीआई (जियोग्राफिकल इंडिकेशन) टैगिंग के लिए आवेदन दि या है उसमें पूर्वांचल के चुनिंदा जिलों में पाया जाने वाले गवरजीत आम भी है। आम की कई किस्में दुनिया भर में मशहूर हैं लेकिन गंवरजीत का स्वाद अपने आप में अनूठा है। इसको जीआई टैग मिलने से देश दुनिया में गौरव बढ़ाएगा।

गवरजीत खास इसलिए भी है क्योंकि इसे कार्बाइड से नहीं पकाया जाता। ठेले पर आम पत्तों के साथ नजर आता है जिससे उसकी अलग पहचान होती है। अपने स्वाद और क्वालिटी के चलते गवरजीत आम की दूसरी किस्मों से महंगा भी होता है।

भले ही मलिहाबाद (लखनऊ) के दशहरी, पश्चिम उत्तर प्रदेश के चौसा, वाराणसी के लंगड़ा और मुंबई के अलफांसो खुद में नामचीन आम हों, पर गोरखपुर और बस्ती मंडल के किसी भी व्यक्ति से पूछेंगे कि आमों का राजा कौन है? तो वह यही कहेगा गवरजीत। बात चाहे खुश्बू की हो या स्वाद और रंग की, नाम के अनुरूप गवरजीत लोगों का दिल जीत लेता है।

पूर्वांचल के गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, महराजगंज, सिद्धार्थनगर, बस्ती और संतकबीरनगर जिलों के लाखों लोगों को आम के सीजन में इसका इंतजार रहता है।

अपनी इन्हीं खूबियों के नाते जून 2016 में लखनऊ के लोहिया पार्क में आयोजित प्रदेश स्तरीय आम महोत्सव में इसे प्रथम पुरस्कार मिला था। इजरायल की मदद से योगी सरकार इसे लोकप्रिय (ब्रांड) बनाने का प्रयास कर रही है। हाल के वर्षों में इसकी लोकप्रियता बढ़ी भी है। अब सीजन में अगर कोई बस्ती के सेंटर ऑफ एक्सीलेंस से आम के 500 पौध खरीदता है तो उसमें 50 गवरजीत के होते हैं। खरीदने वालों में लखनऊ और अंबेडकर नगर आदि जिलों के भी लोग हैं।

अगर इसकी अन्य खूबियों की बात करें तो यह आम की अर्ली प्रजाति है। इसकी आवक दशहरी के पहले शुरू होती है। जब तक डाल की दशहरी आती है तब तक यह खत्म हो जाता है। मौसम ठीक ठाक रहे तो डाल के गवरजीत की आवक जून के दूसरे हफ्ते में शुरू हो जाती है।

अमूमन यह डाल पर ही पकता है और पत्तियों के साथ बिकता है। मांग इतनी कि इसका सौदा पेड़ में बौर आने के साथ ही हो जाता है। फुटकर खरीदार बाग से ही इसे खरीद लेते हैं। मंडी में यह कम ही आता है। फुटकर दुकानों से ही ग्राहक इसे हाथोंहाथ ले लेते हैं। सीजन में सबसे अच्छे भाव गौरजीत के ही मिलते हैं। पिछले सीजन में फुटकर में प्रति कीलोग्राम बेहतर गुणवत्ता वाले गौरजीत के भाव 200 रुपये थे। गोरखपुर-बस्ती मंडल के करीब 6000 हेक्टेयर में गवरजीत के बागान हैं। बिहार के कुछ जिलों में भी गवरजीत के आम हैं, पर इनको वहां जदार्लु और मिठुआ नाम से भी जाना जाता है।

निदेशक हॉर्टिकल्चर आर.के. तोमर और ज्वाइंट डायरेक्टर हॉर्टिकल्चर (बस्ती) अतुल सिंह का कहना है कि खुश्बू और स्वाद में गवरजीत का कोई जवाब नहीं है। आप कह सकते हैं कि चूस कर खाने वाली यह सबसे अच्छी प्रजाति है। मई के लास्ट या जून के पहले हफ्ते में यह बाजार में आ जाती है। 90 फीसद खपत पूर्वांचल में ही हो जाती है।

पूर्वांचल के गोरखपुर देवरिया, कुशीनगर, महराजगंज, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीरनगर, बहराइच, गोंडा और श्रावस्ती जिले के लाखों किसानों-बागवानों को इसका मिलेगा। क्योंकि ये सभी जिले एक एग्रोक्लाईमेट जोन (कृषि जलवायु क्षेत्र) में आते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि इन जिलों में जो भी उत्पाद होगा उसकी खूबियां भी एक जैसी होंगी।

उल्लेखनीय है कि योगी सरकार ने गौरजीत समेत 15 उत्पादों के जीआई टैंगिंग के लिए आवेदन किया है। ये उत्पाद हैं- बनारस का लंगड़ा आम, पान पत्ता, बुंदेलखंड का कठिया गेहूं, प्रतापगढ़ के आंवला, बनारस लाल पेड़ा, लाल भरवा मिर्च, पान (पत्ता), तिरंगी बरफी, ठंडई, पश्चिम यूपी का चौसा आम, पूर्वांचल का आदम चीनी चावल, जौनपुर की इमरती, मुजफ्फरनगर का गुड़ और रामनगर का भांटा गोल बैगन। इन सबके जीआई पंजीकरण की प्रक्रिया अंतिम चरण में हैं।

जीआई टैग किसी क्षेत्र में पाए जाने वाले कृषि उत्पाद को कानूनी संरक्षण प्रदान करता है। जीआई टैग द्वारा कृषि उत्पादों के अनाधिकृत प्रयोग पर अंकुश लगाया जा सकता है। यह किसी भौगोलिक क्षेत्र में उत्पादित होने वाले कृषि उत्पादों का महत्व बढ़ा देता है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में जीआई टैग को एक ट्रेडमार्क के रूप में देखा जाता है। इससे निर्यात को बढ़ावा मिलता है, साथ ही स्थानीय आमदनी भी बढ़ती है तथा विशिष्ट कृषि उत्पादों को पहचान कर उनका भारत के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय बाजार में निर्यात और प्रचार प्रसार करने में आसानी होती है।

–आईएएनएस

आईपीएल 2023 सीजन में रणनीतिक विकल्प पेश कर सकता है बीसीसीआई : रिपोर्ट

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) रणनीतिक विकल्प शुरू करने की योजना बना रहा है और आगामी आईपीएल 2023 सीजन में दिखाई दे सकता है। इस साल अक्टूबर-नवंबर में...

विश्व बैंक ने बांग्लादेश में बेहतर पर्यावरण प्रबंधन के लिए 25 करोड़ डॉलर की मंजूरी दी

ढाका: विश्व बैंक ने बांग्लादेश को पर्यावरण प्रबंधन को मजबूत करने और हरित निवेश में निजी क्षेत्र की भागीदारी को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए 25 करोड़ डॉलर...

नवंबर में बढ़ी सोने की कीमत, दिसंबर में भी रहेगी तेजी : विशेषज्ञ

मुंंबई: पीली धातु के लिए अपने ²ष्टिकोण में विशेषज्ञों ने कहा कि हाल के दिनों में वैश्विक कीमतों में वृद्धि के साथ इस महीने भी सोने में तेजी बनी रहेगी।...

एम्स सर्वर अटैक बड़ी साजिश, स्टेट एक्टर या बड़े संगठित गैंग हो सकते हैं शामिल : राजीव चंद्रशेखर

नई दिल्ली:केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने एम्स के सर्वर डाउन होने की घटना को बड़ी साजिश बताते हुए कहा है कि इसके पीछे 'स्टेट एक्टर' भी...

बंगाल में एक भी बिजली संयंत्र ने मानक उत्सर्जन मानकों को लागू नहीं किया: सीआरईए रिपोर्ट

कोलकाता: ऐसे समय में जब एचईआई सोगा की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार कोलकाता को दुनिया के दूसरे सबसे प्रदूषित शहर के रूप में ब्रांडेड किया गया है, सेंटर फॉर...

बिहार के मखाना को वैश्विक बाजार उपलब्ध कराने के शुरू हुए प्रयास

पटना: बिहार के मखाना को अब वैश्विक बाजार उपलब्ध कराने के लेकर प्रयास किए जाने लगे हैं। इसी उद्देश्य को लेकर पटना में मखाना महोत्सव सह राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन...

चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में जीडीपी विकास दर घटकर 6.3 प्रतिशत रह गई

नई दिल्ली: सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत की जीडीपी वृद्धि चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में आधी होकर 6.3 फीसदी पर आ गई,...

सरकार का दूरसंचार कंपनियों को निर्देश, हवाईअड्डों से 2.1 किमी के दायरे में 5जी बेस स्टेशन न लगाएं

नई दिल्ली: दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने दूरसंचार प्रदाताओं भारती एयरटेल, रिलायंस जियो और वोडाफोन को तत्काल प्रभाव से भारतीय हवाई अड्डों की 2.1 किलोमीटर की सीमा के भीतर सी-बैंड 5जी...

एनडीटीवी के नए बोर्ड ने आरआरपीआर निदेशक प्रणय रॉय और राधिका रॉय के इस्तीफे मंजूर किए

नई दिल्ली : एनडीटीवी के नए बोर्ड ने मंगलवार देर रात एक नाटकीय घटनाक्रम में प्रणय रॉय और राधिका रॉय के आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (आरआरपीआर) के निदेशक पद से...

भारत में टारगेट हत्याओं के पीछे पाकिस्तान-कनाडा स्थित आतंकवादी, एनआईए जांच में खुलासा

नई दिल्ली : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारियों ने मंगलवार को आतंकवादी-गैंगस्टर सांठगांठ मामले के सिलसिले में देश भर में गैंगस्टरों से संबंधित 13 से अधिक स्थानों पर छापे...

भारत अपने डेटा उपयोग के बारे में पहले से कहीं अधिक जागरूक : जयशंकर

नई दिल्ली: विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि देश अब इस बात को लेकर ज्यादा जागरूक है कि उसके डेटा को कहां और कौन प्रोसेस करता है।...

डिजिटल रुपया पर आरबीआई का पायलट प्रोजेक्ट 1 दिसंबर से

नई दिल्ली, 29 नवंबर (आईएएनएस)| भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की खुदरा डिजिटल रुपया (ईए,-आर) के लिए पहली पायलट परियोजना 1 दिसंबर, 2022 को शुरू की जाएगी। आरबीआई द्वारा जारी एक...

editors

Read Previous

प्रतिस्पर्धी कंपनियों में नौकरियों की छंटनी के बीच टिकटॉक में भर्ती जारी

Read Next

‘बार्बी’ में रयान के लुक को लेकर ग्रेटा गेरविग ने किया खुलासा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com