रूस ने पाकिस्तान को की रियायती दरों पर कच्चे तेल की आपूर्ति की पेशकश

इस्लामाबाद:एक बड़े सकारात्मक घटनाक्रम में रूस ने पाकिस्तान को 1 लाख बैरल प्रतिदिन कच्चा तेल रियायती दरों पर उपलब्ध कराने की पुष्टि की है और इस पर सहमति जताई है। संघीय पेट्रोलियम राज्य मंत्री मुसादिक मलिक ने मास्को से लौटने के बाद घटनाक्रम की पुष्टि की।

इस्लामाबाद में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, रूस ने प्रतिदिन 1 लाख बैरल कच्चे तेल की आपूर्ति की सहमति दी है, लेकिन अभी तक की दर की पुष्टि नहीं की है, जिस पर जनवरी में चर्चा की जाएगी।

पेट्रोलियम मंत्रालय के सूत्रों ने भी पुष्टि की कि शर्तों और दरों को मास्को से पाकिस्तान के एक प्रतिनिधिमंडल की यात्रा के दौरान अंतिम रूप दिया जाएगा, जो अगले साल 23 जनवरी से होने वाला है।

मुसादिक मलिक ने कहा, रूस हमें रियायती दर पर कच्चा तेल देगा। वह हमें रिफाइनरी उत्पादों, पेट्रोल और डीजल पर छूट देगा।

तेल और गैस की आपूर्ति के संबंध में रूस के साथ बातचीत बहुत सकारात्मक रही है।

अब पाकिस्तान के लिए जटिलता इस बात पर टिकी है कि महत्वपूर्ण सौदे के माध्यम से रूस से आपूर्ति प्राप्त करने के लिए वह किस आयात मूल्य सीमा का पालन करेगा।

एक ओर रूसी समुद्री तेल पर जी-7 देशों और यूरोपीय संघ (ईयू) द्वारा लगाए गए 60 डॉलर प्रति बैरल की सीमा इस सप्ताह से शुरू हो रही है। दूसरी ओर मास्को ने स्पष्ट कर दिया है कि वह उन देशों को तेल नहीं बेचेगा जो उल्लिखित सीमा का अनुपालन करते हैं।

इसके अलावा सूत्रों ने यह भी पुष्टि की कि अमेरिका ने पाकिस्तान के वित्त मंत्री ईशर डार को उसी 60 डॉलर प्रति बैरल कैप के तहत रूस से तेल खरीदने के लिए भी कहा है।

यह पाकिस्तान को एक मुश्किल स्थिति में डालता है क्योंकि अगर वह जी 7 और ईयू कैप के तहत रहता है, तो रूस पाकिस्तान को तेल आपूर्ति प्रदान करने के लिए सहमत नहीं हो सकता है। अगर इस्लामाबाद रूस के साथ अलग शर्तों पर सहमत होने का फैसला करता है, तो यह अमेरिका, जी7 देशों और यूरोपीय संघ के साथ अपने संबंधों को खतरे में डालेगा।

पेट्रोलियम मंत्रालय के एक सूत्र ने कहा, अब सवाल यह है कि क्या रूस तय कीमत पर बिक्री पर पाकिस्तान के साथ सहमत होगा, यह रूसी प्रतिनिधिमंडल की यात्रा के दौरान स्पष्ट होगा।

पाकिस्तान नकदी संकट और कठिन वित्तीय स्थिति के कारण अमेरिका और यूरोपीय संघ की चिंताओं को नजरअंदाज करना उसके लिए लगभग असंभव हो जाता है, खासकर वाशिंगटन द्वारा यह कहने के बाद कि उसे इस्लामाबाद द्वारा रूस से तेल खरीद के साथ कोई समस्या नहीं है, जब तक कि वह परिस्थितियों के साथ अपने फैसले खुद लेता है।

यह घटनाक्रम ऐसे समय में आया है जब पाकिस्तान की अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ नौवीं समीक्षा और 1.2 बिलियन डॉलर की किश्त में देरी हो रही है, क्योंकि इस्लामाबाद अपनी आकलन रिपोर्ट में आईएमएफ को संतुष्ट करने में विफल रहा, इसससे आईएमएफ की आकलन टीम के पाकिस्तान दौरे में देरी हुई।

ऐसा माना जाता है कि पाकिस्तान को आईएमएफ बेलआउट पैकेज अमेरिका के समर्थन और प्रभाव से पुनर्जीवित किया गया था और अब पाकिस्तान अपनी बिगड़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए रूस से निकटता बढ़ा रहा है, तो दोनों देशों के साथ संबंधों के संतुलन को प्रासंगिक बनाए रखने के लिए सौदे को स्मार्ट तरीके से संभालना होगा।

–आईएएनएस

बजट में वित्तमंत्री ने की कई बड़ी घोषणाएं, जानिए बजट की 10 प्रमुख बातें

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को बजट पेश किया। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट था। ऐसे में निर्मला सीतारमण ने टैक्स...

सरकार ने राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत तय किया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत निर्धारित किया, जबकि इस बात पर जोर...

नई कर व्यवस्था में 7 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए नए टैक्स स्लैब की घोषणा की, जिसके तहत नई आयकर व्यवस्था के तहत सालाना 7 लाख रुपये...

‘सार्वजनिक पूंजीगत खर्च बढ़ने पर बजट ने निराश नहीं किया’

चेन्नई : एक्यूट रेटिंग्स एंड रिसर्च के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बजट 2023-24 सरकार द्वारा सार्वजनिक पूंजीगत व्यय की प्रतिबद्धता के संबंध में निराशाजनक नहीं है। "बाजार सरकार...

आम बजट 2023-24 : गोबर बनेगा कमाई का जरिया

नई दिल्ली : लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना पांचवां बजट पेश कर रही हैं। वित्तमंत्री ने बजट में वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पीएम प्रणाम योजना...

पीएम आवास योजना का परिव्यय 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये किया गया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के परिव्यय को 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये करने की घोषणा की। इस योजना में...

भारतीय अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर : सीतारमण

नई दिल्ली : लोकसभा में केंद्रीय बजट 2023-24 पेश करते हुए, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था 'सही रास्ते पर है और उज्‍जवल भविष्य...

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, समावेशी विकास पर है बजट का फोकस

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सरकार का आर्थिक एजेंडा नागरिकों के लिए अवसरों को सुविधाजनक बनाने, विकास और रोजगार सृजन को मजबूत गति प्रदान...

वित्तमंत्री 11 बजे पेश करेंगी बजट

नई दिल्ली: | वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 2024 लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार के कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट आज पेश करेंगी। सुबह 11 बजे वित्त मंत्री का लोकसभा...

भारत में 2023 में वैश्विक व्यापार और अधिक कम होने की उम्मीद

नई दिल्ली : 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण में चेतावनी दी गई है कि आक्रामक और समकालिक मौद्रिक सख्ती के कारण वैश्विक आर्थिक विकास और विश्व व्यापार धीमा होने लगा है।...

कृषि क्षेत्र में 6 वर्षों में 4.6 प्रतिशत की वार्षिक दर से वृद्धि : आर्थिक सर्वे

नई दिल्ली : देश के कृषि क्षेत्र में छह वर्षों में 4.6 प्रतिशत की औसत वार्षिक वृद्धि दर के साथ वृद्धि दर्ज की गई है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण...

ग्रामीण अर्थव्यवस्था में वृद्धि से मनरेगा की मांग में कमी : आर्थिक सर्वेक्षण

नई दिल्ली : महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) कार्य की मासिक मांग में मजबूत कृषि विकास के कारण साल-दर-साल गिरावट आ रही है। 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण...

editors

Read Previous

सीबीआई ने उत्तर रेलवे के इंजीनियर को किया गिरफ्तार, 2 करोड़ रुपये बरामद

Read Next

पाक में राजनीतिक अस्थिरता बनी हुई है गंभीर चुनौती

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com