बिहार के मखाना को वैश्विक बाजार उपलब्ध कराने के शुरू हुए प्रयास

पटना: बिहार के मखाना को अब वैश्विक बाजार उपलब्ध कराने के लेकर प्रयास किए जाने लगे हैं। इसी उद्देश्य को लेकर पटना में मखाना महोत्सव सह राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें मखाना से जुड़ी कंपनी और क्रेता और विक्रेता हिस्सा ले रहे हैं। बिहार दुनिया में मखाना का शीर्ष उत्पादक है। देश में उत्पादित होने वाले मखाना का लगभग 90 प्रतिशत उत्पादन बिहार में होता है।

पटना में आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन के पहले दिन मंगलवार को कृषि मंत्री सर्वजीत कुमार ने इस सम्मेलन का उद्घाटन किया। सम्मेलन में दिल्ली, गुजरात, पश्चिम बंगाल सहित देश के विभिन्न क्षेत्रों से निर्यातक सहित बिहार के उत्पादक भाग ले रहे हैं।

मंत्री ने बताया कि वर्तमान में 35 हजार हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में मखाना का उत्पादन हो रहा है। पॉप मखाना का उत्पादन वर्ष 2012-13 में 9,360 टन था, जो बढ़कर वर्तमान समय में लगभग 23.50 हजार टन हो गया है। उल्लेखनीय है कि बिहार के आठ जिलों कटिहार, दरभंगा, सुपौल, किशनगंज, पूर्णिया, सहरसा, अररिया और पश्चिमी चंपारण में किसानों को मखाना की खेती के लिए 75 प्रतिशत अनुदान दिया जा रहा है। विशिष्ट पहचान के लिए मिथिला मखाना नाम से जीआई टैग मिला है।

इस सम्मेलन में भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ (नेफेड) सहित कई संस्थानों और निजी कंपनियों के स्टॉल लगाए गए हैं, जिसमें लोग मखाना से बने विभिन्न खाद्य पदार्थों को देख पा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि बिहार के मधुबनी, दरभंगा, सुपौल, सीतामढ़ी, अररिया, कटिहार, पूर्णिया, किशनगंज मखाने की खेती के लिए विख्यात हैं। मिथिलांचल की पहचान कदम कदम पर पोखर (तालाब), मछली और मखाना के लिए दुनिया में जाना जाता है।

स्टॉल लगाने पहुंचे पीएलयू प्राइवेट लिमिटेड, दरभंगा के सीईओ राजीव रंजन कहते हैं कि भारत से मखाना जिन देशों में निर्यात किया जाता है, उसमें अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा सबसे आगे है। भारत से सालाना 100 टन मखाना ही निर्यात किया जाता है। सुनने में आपको ये मात्रा काफी कम लग रही होगी, लेकिन मखाना बहुत हल्का होता है इसलिए संख्या कम भारी नहीं है।

उन्होंने बताया कि भारत में हर साल 50-60 हजार टन मखाने के बीज की पैदावार होती है, जिससे 20-25 हजार टन मखाने का लावा निकलता है।

मखाना प्राकृतिक, शुद्ध आहार माना जाता है, जो व्रत में और ऐसे भी (बिना व्रत वाले दिन भी) हेल्दी स्नैक्स की तरह भारत के घरों में इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने दावा किया कि सेहत के लिए फायदेमंद होने की वजह से इसका व्यापार साल दर साल दुनिया में बढ़ता ही जा रहा है।

इधर, कृषि मंत्री कुमार सर्वजीत कहते हैं कि बिहार के मखाना की ब्रांडिंग के लिए भारत के सभी एयरपोर्ट पर मखाना बेचने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कृषक उत्पादक समूहों को निर्यात के लिए लाइसेंस भी दिया जा रहा है।

–आईएएनएस

बजट में वित्तमंत्री ने की कई बड़ी घोषणाएं, जानिए बजट की 10 प्रमुख बातें

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को बजट पेश किया। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट था। ऐसे में निर्मला सीतारमण ने टैक्स...

सरकार ने राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत तय किया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत निर्धारित किया, जबकि इस बात पर जोर...

नई कर व्यवस्था में 7 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए नए टैक्स स्लैब की घोषणा की, जिसके तहत नई आयकर व्यवस्था के तहत सालाना 7 लाख रुपये...

‘सार्वजनिक पूंजीगत खर्च बढ़ने पर बजट ने निराश नहीं किया’

चेन्नई : एक्यूट रेटिंग्स एंड रिसर्च के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बजट 2023-24 सरकार द्वारा सार्वजनिक पूंजीगत व्यय की प्रतिबद्धता के संबंध में निराशाजनक नहीं है। "बाजार सरकार...

आम बजट 2023-24 : गोबर बनेगा कमाई का जरिया

नई दिल्ली : लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना पांचवां बजट पेश कर रही हैं। वित्तमंत्री ने बजट में वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पीएम प्रणाम योजना...

पीएम आवास योजना का परिव्यय 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये किया गया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के परिव्यय को 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये करने की घोषणा की। इस योजना में...

भारतीय अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर : सीतारमण

नई दिल्ली : लोकसभा में केंद्रीय बजट 2023-24 पेश करते हुए, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था 'सही रास्ते पर है और उज्‍जवल भविष्य...

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, समावेशी विकास पर है बजट का फोकस

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सरकार का आर्थिक एजेंडा नागरिकों के लिए अवसरों को सुविधाजनक बनाने, विकास और रोजगार सृजन को मजबूत गति प्रदान...

वित्तमंत्री 11 बजे पेश करेंगी बजट

नई दिल्ली: | वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 2024 लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार के कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट आज पेश करेंगी। सुबह 11 बजे वित्त मंत्री का लोकसभा...

भारत में 2023 में वैश्विक व्यापार और अधिक कम होने की उम्मीद

नई दिल्ली : 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण में चेतावनी दी गई है कि आक्रामक और समकालिक मौद्रिक सख्ती के कारण वैश्विक आर्थिक विकास और विश्व व्यापार धीमा होने लगा है।...

कृषि क्षेत्र में 6 वर्षों में 4.6 प्रतिशत की वार्षिक दर से वृद्धि : आर्थिक सर्वे

नई दिल्ली : देश के कृषि क्षेत्र में छह वर्षों में 4.6 प्रतिशत की औसत वार्षिक वृद्धि दर के साथ वृद्धि दर्ज की गई है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण...

ग्रामीण अर्थव्यवस्था में वृद्धि से मनरेगा की मांग में कमी : आर्थिक सर्वेक्षण

नई दिल्ली : महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) कार्य की मासिक मांग में मजबूत कृषि विकास के कारण साल-दर-साल गिरावट आ रही है। 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण...

editors

Read Previous

चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में जीडीपी विकास दर घटकर 6.3 प्रतिशत रह गई

Read Next

कृति-प्रभास के रिश्ते को लेकर वरुण धवन ने दी सफाई

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com