कोविड: बकरीद के चलते सड़कों पर ग्राहक ढूंढते दिखे बिक्रेता, 3 लाख रुपये का बकरा सिर्फ डेढ़ लाख में उपलब्ध

नई दिल्ली: बाजार इस बार हल्का है। आज सुबह ही कासगंज से दिल्ली तीन बकरे बेचने के लिए यहां पहुंचे हैं। ग्राहक इन बकरों के 1 लाख 40 हजार रुपए दे रहे हैं जबकि हम तीनों के 3 लाख रुपये मांग रहे हैं। जामा मस्जिद के बाहर ग्राहकों को ढूंढ रहे बकरा व्यापारी जसवंत ने ये बात कही।

जसवंत ही अकेले बकरा व्यापारी नहीं जो मनचाहे दाम मिल जाने की उम्मीद में जामा मस्जिद के बाहर खड़े है । इनके अलावा राजस्थान और उत्तरप्रदेश के विभिन्न जिलों से बकरा व्यापारी बकरीद के चलते बिजनेस करने के लिए दिल्ली पहुंचे हैं।

कोरोना महामारी के चलते बकरीद त्यौहार लगातार दूसरे साल भी फीका रहने के आसार हैं। महामारी का असर बकरा बिक्रेता और ग्राहक दोनों पर दिख रहा है।

हर साल दिल्ली की जामा मस्जिद के बाहर उर्दू पार्क में लगने वाली बकरों की मंडी पर ग्राहक और बिक्रेता के बीच मनमानी दामों को लेकर बात बनती-बिगड़ती नजर आ रही है।

कोरोना महामारी के कारण एक तरफ लोगों की जेब हल्की हो गई है तो दूसरी ओर बिक्रेताओं की ओर से बकरे के दाम भी पहले के मुकाबले ज्यादा बताए जा रहे हैं।

जामा मस्जिद के बहार बकरा व्यापारी सड़कों पर ही ग्राहक ढूंढ़ रहे हैं, लेकिन इस बार ग्राहक अपनी जेब के अनुसार बकरे खरीद रहें हैं।

दिल्ली निवासी सलीम ने बताया, महामारी का बहुत असर है। लोगों के पास पैसा नहीं है। एक तो इस बार बाजार में बकरे कम है दूसरा बकरों की कमी होने के चलते बकरों के दाम भी बिक्रेता बढ़ा चढ़ा कर बोल रहे हैं।

देश भर में 21 जुलाई को बकरीद मनाई जाएगी। जामा मस्जिद के बाहर उर्दू पार्क में महामारी से पहले एक लाख बकरे बिकने आते थे। लेकिन दूसरी साल लगातार बार बकरा मंडी न के बराबर लगी हुई है।

यूपी के शामली जिले से आये बकरा कारोबारी अफजल ने आईएएनएस से कहा, करीब 70 बकरे लेकर दिल्ली आया हूं। इनमें से अभी तक 10 बकरे ही बिके हैं। जितने बिकने है वह आज ही के दिन बिकेंगे । इसके अलावा उम्मीद कम है। इस साल ग्राहक भी सस्ता बकरा ढूंढ रहें हैं।

अमरोहा निवासी मोहम्मद कमर हर साल जामा मस्जिद बकरा बेचने आते हैं । उनके अनुसार, अभी तक तो ठीक से बाजार लग रहा है। दिन में गर्मी होने के कारण ग्राहक कम है लेकिन रात तक उम्मीद है कि सारे बकरे बिक जाएंगे।

दिल्ली की जामा मस्जिद में हर साल विक्रेता दूसरे राज्यों से भी कुबार्नी के लिए बकरे मंगाते थे। राजस्थान, उत्तरप्रदेश के बरेली, बदायूं, हरियाणा के मेवात से बकरे जामा मस्जिद के बाहर उर्दू पार्क में बिकने आते थे। लेकिन इस बार बकरे बाजार में उतर ही नहीं सके हैं, जिसके चलते इक्के-दुक्के बकरा व्यापारी बकरे बेच रहे हैं।

यहां बिकने वाले बकरों की कीमत उनकी नस्ल के आधार पर तय होती है। तोता परी, दुम्बा आदि नस्लों में तोता परी बकरा मुंडा होता है । यानी इस बकरे के कान बड़े होते हैं, उनकी कीमत करीब 30 से 40 हजार रुपये होती है।

वहीं दुम्बा बकरा वजनी होता है । यह बड़ा और ऊंचा भी होता है। इसकी कीमत 70 हजार रुपये से शुरू होकर डेढ़ लाख रुपये तक पहुंच जाती है। लेकिन इस साल ग्राहकों की अनुपस्थिति के कारण इन कीमतों का कोई मतलब नहीं रह गया है।

ईद के लिए बकरा खरीदने आए स्थानीय निवासी आमिर कहते हैं , यदि 2 लाख का बकरा भी बिकेगा तो भी खरीदेंगे, क्योंकि हमें तो कुर्बानी करनी है। फिलहाल दो दिन बचे हुए है और हम बाजार का सर्वे कर रहे हैं।

बिक्रेताओं का कहना है कि इस साल खरीददार तो है लेकिन सस्ता बकरा ढूंढ रहे हैं क्योंकि लोगों की जेब पर इस बार काफी असर पड़ा है। जो शख्स हर साल चार बकरे कुबार्नी करता था, वह इस साल एक ही बकरे की कुर्बानी कर रहा है।

स्थिति इतनी खराब है कि दिन भर इंतजार करने के बावजूद विक्रेताओं को बकरों के खरीददार नहीं मिल रहे हैं।

मुस्लिम धर्म में दो मुख्य त्योहार मनाए जाते हैं -ईद-उल-अजहा और ईद-उल फितर। ईद-उल-अजहा बकरीद को कहा जाता है। मुसलमान यह त्योहार कुबार्नी के पर्व के तौर पर मनाते हैं। इस्लाम में इस पर्व का विशेष महत्व है, लेकिन कोरोनावायरस के कारण यह त्योहार इस बार फीका दिखाई दे रहा है।

–आईएएनएस

सेबी ने कहा, उसे ज़ी और एस्सेल संस्थाओं के बीच लेनदेन में महत्वपूर्ण खतरे दिखाई देते हैं

नई दिल्ली : एक महत्वपूर्ण कदम में बाजार नियामक सेबी ने बुधवार को प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (एसएटी) के समक्ष जोरदार ढंग से दोहराया कि उसे ज़ी और एस्सेल संस्थाओं के...

बाइडेन की यात्रा से पहले भारत ने 12 अमेरिकी उत्पादों से अतिरिक्त शुल्क हटाया

नई दिल्ली । भारत ने चना, दाल और सेब जैसे कुछ अमेरिकी उत्पादों पर अतिरिक्त शुल्क हटा दिया है। भारत ने ये कदम अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की देश की...

जीडीपी विकास दर 3 साल में सबसे कम, पीएम मोदी के पास चुनौतियों का कोई जवाब नहीं : कांग्रेस

नई दिल्ली : कांग्रेस ने गुरुवार को सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि चालू वित्तवर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी दर 7.8 फीसदी पिछले तीन वर्षों में सबसे कम...

मूडीज ने 2023 के लिए भारत की जीडीपी का अनुमान बढ़ाकर 6.7 फीसदी किया

नई दिल्ली : ग्लोबल रेटिंग एजेंसी मूडीज ने 2023 के लिए भारत की विकास दर का अनुमान 5.5 फीसदी से बढ़ाकर 6.7 फीसदी कर दिया है। हालांकि, इसके साथ ही...

इस साल भारतीय बाज़ारों का प्रदर्शन अमेरिकी बाज़ारों से रहा कमज़ोर

नई दिल्ली : जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी.के. विजयकुमार का कहना है कि इस साल बाजार के प्रदर्शन की एक महत्वपूर्ण विशेषता अमेरिका के मुकाबले भारत का...

आरबीआई ने ऑफलाइन डिजिटल भुगतान की सीमा बढ़ाकर 500 रुपये की

नई दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गुरुवार को ऑफ़लाइन किए जाने वाले छोटे मूल्य के डिजिटल भुगतान के लिए लेनदेन की सीमा पहले के 200 रुपये से बढ़ाकर...

बैंक ऑफ बड़ौदा ने सनी देओल की संपत्ति की नीलामी ली वापस, यूनियन ने की आलोचना

चेन्नई : बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) ने कर्ज अदा न करने पर भाजपा सांसद और अभिनेता सनी देओल की मुंबई संपत्ति की नीलामी के अपने फैसले को वापस ले लिया...

मूडीज़ ने भारत की बीएए3 रेटिंग बरकरार रखी; मणिपुर, राजनीतिक मुद्दों पर जताई चिंता

नई दिल्ली : मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने शुक्रवार को भारत की बीएए3 रेटिंग की पुष्टि करते हुए देश को लेकर अपना स्थिर दृष्टिकोण बरकरार रखा। हालांकि इसके साथ ही उसने...

भारतीय बाजार में एफआईआई के अधिक पैसा डालने की संभावना कम

नई दिल्ली : डॉलर इंडेक्स 103.5 पर और अमेरिकी 10-वर्षीय बॉन्ड यील्ड 4.27 प्रतिशत पर होने के कारण, एफआईआई द्वारा जून और जुलाई की तरह भारतीय बाजार में अधिक पैसा...

आरबीआई ने रेपो दर में नहीं किया बदलाव, जीडीपी विकास दर 6.5 प्रतिशत रहने का अनुमान

चेन्‍नई : अर्थशास्त्रियों की उम्‍मीद के अनुरूप भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने गुरुवार को रेपो दर 6.5 प्रतिशत पर स्थिर रखने की घोषणा की। समिति...

नियामक चुनौतियों के कारण संघर्ष कर रहे 20 प्रतिशत भारतीय यूनिकॉर्न

नई दिल्ली : भारतीय स्टार्टअप्स ने वित्त वर्ष 2024 में अपनी लाभप्रदता में काफी सुधार किया है, और भारत में लगभग 50 प्रतिशत यूनिकॉर्न वित्त वर्ष 27 तक लाभदायक होंगे।...

केंद्र ने लैपटॉप, पीसी और टैबलेट के आयात पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने गुरुवार को लैपटॉप, टैबलेट, पर्सनल कंप्यूटर और सर्वर के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) द्वारा गुरुवार को जारी एक अधिसूचना...

editors

Read Previous

किसानों को उनकी भाषा में सही जानकारी उपलब्ध कराएगा ‘किसान सारथी’

Read Next

विश्वविद्यालयों को लोकतंत्र का आदर्श संस्करण होना चाहिए : शशि थरूर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com