2030 तक 240 अरब डॉलर पर पहुंच सकता है देश का इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट विनिर्माण

नई दिल्ली । सरकार की ओर से घरेलू इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण को बढ़ावा दिए जाने के कारण देश के इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट और सब-असेंबली का बाजार 2030 तक 240 अरब डॉलर के आंकड़े को छू सकता है। इससे 2026 तक करीब 2.8 लाख नई नौकरियां पैदा होंगी और 500 अरब डॉलर के इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन के लक्ष्य का मार्ग प्रशस्त होगा।

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की रविवार को जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि प्राथमिक इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट और सब-असेंबली (पीसीबीए सहित) की मांग 2030 तक 30 प्रतिशत की औसत वार्षिक दर से बढ़ते हुए 139 अरब डॉलर तक पहुंच सकती है।

पिछले वर्ष इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट और सब-असेंबली की मांग 45.5 अरब डॉलर पर थी जिसने करीब 102 अरब डॉलर के इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों के विनिर्माण में मदद की।

रिपोर्ट में बताया गया है कि बैटरी (लिथियम आयन), कैमरा मॉड्यूल, मैकेनिकल, डिस्प्ले और पीसीबी के लिए कंपोनेंट को सरकार ने उच्च प्राथमिकता में रखा है। वर्ष 2022 में देश की कुल इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट की मांग में 43 प्रतिशत का योगदान इन्हीं उत्पादों का था। वर्ष 2030 तक इस मांग के 51.6 अरब डॉलर पर पहुंचने की उम्मीद है।

रिपोर्ट में कहा गया कि पीसीबीए में भारत के लिए काफी संभावनाएं हैं क्योंकि इसकी मांग की ज्यादातर पूर्ति आयात से की जाती है। यह सेगमेंट 30 प्रतिशत की दर से बढ़ सकता है। इसकी मांग 2030 में 87.46 अरब डॉलर तक पहुंच सकती है।

रिपोर्ट में कुछ विशेष इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट के लिए वित्तीय सहायता देने की भी मांग की गई है। छह से आठ साल तक वित्तीय सहायता मिलने से इन उत्पादों की विनिर्माण क्षमता बढ़ाने के लिए उत्पादकों के पास पर्याप्त समय होगा।

इसके अतिरिक्त रिपोर्ट में प्रमोशन ऑफ मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट एंड सेमीकंडक्टर 2.0 स्कीम शुरू करने की मांग की गई है। इसमें कहा गया है कि दूसरे चरण में 25 से 40 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाए ताकि संभावित निवेशकों को आसानी हो।

सीआईआई ने कहा है कि भारतीय उत्पादों की निर्यात मांग पैदा करने से दोतरफा फायदा होगा। पहला, निर्यात की मात्रा बढ़ जाएगी। दूसरी तरफ घरेलू कंपोनेंट और सब-असेंबली के विनिर्माण के लिए भी यह मददगार होगा।

–आईएएनएस

एग्रोस्टार के सस्टेनेबिलिटी रिपोर्ट में एग्रीकल्चर इकोसिस्टम पर परिवर्तनकारी प्रभाव

नई दिल्ली । लीडिंग एग्रीटेक एग्रोस्टार ने गुरुवार को अपनी व्यापक पर्यावरण, सामाजिक और शासन (ईएसजी) प्रभाव रिपोर्ट 2024 जारी की। इसमें इंडियन एग्रीकल्चर इकोसिस्टम (भारतीय कृषि पारिस्थितिकी तंत्र) पर...

कैंसर के क्षेत्र में काम करने वाले अमेरिकी स्टार्टअप नवॉक्स को मिली फंडिंग

नई दिल्ली । कैंसर का शीघ्र पता लगाने की नई तकनीक विकसित करने वाले अमेरिकी स्टार्टअप नवॉक्स ने गुरुवार को ताजा फंडिंग मिलने की घोषणा करते हुए कहा कि यह...

बजट में नौ शीर्ष प्राथमिकताओं में स्वास्थ्य का न होना चिंता का विषय : विशेषज्ञ

नई दिल्ली । केंद्रीय बजट 2024-25 को लेकर विशेषज्ञों ने कहा है कि इस बजट में घरेलू और अंतरराष्ट्रीय रुझानों का बेहतर तरीके से ध्यान रखा गया, लेकिन सरकार की...

अदाणी ग्रीन ने खावड़ा रिन्यूएबल एनर्जी प्लांट में शुरू किया पवन ऊर्जा का उत्पादन

अहमदाबाद | अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (एजीईएल) ने बुधवार को कहा कि कंपनी ने गुजरात के खावड़ा में स्थित 30,000 मेगावाट (30 गीगावाट) क्षमता वाले दुनिया के सबसे बड़े रिन्यूएबल...

बजट के बाद शेयर बाजार में रिकवरी, सेंसेक्स सपाट बंद

मुंबई । भारतीय शेयर बाजार में बजट के कारण मंगलवार को भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। हालांकि, बाजार के मुख्य सूचकांक सपाट बंद होने में कामयाब रहे। कारोबारी सत्र के...

इंडस्ट्री दिग्गजों ने बजट को सराहा, बताया – रोजगार सृजन और महिला विकास में निभाएगा बड़ी भूमिका

नई दिल्ली । देश के बड़े इंडस्ट्री चैंबर्स ने मंगलवार को केंद्रीय बजट 2024-25 की सराहना करते हुए कहा कि यह आम जनता केंद्रित है, जो कि राजकोषीय स्थिरता के...

भूटान के नरेश और प्रधानमंत्री ने किया अदाणी की खावड़ा परियोजना, मुंद्रा पोर्ट का दौरा

अहमदाबाद । भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक और प्रधानमंत्री शेरिंग टोबगे ने मंगलवार को अदाणी समूह की खावड़ा नवीकरणीय ऊर्जा परियोजना और मुंद्रा पोर्ट का दौरा किया। अदाणी समूह...

भारत की जीडीपी विकास दर 2024-25 में 6.5 से 7 प्रतिशत रहने का अनुमान : आर्थिक सर्वेक्षण

नई दिल्ली । वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से सोमवार को पेश किए गए आर्थिक सर्वेक्षण में अनुमान जताया गया कि वित्त वर्ष 2024-25 में भारत की जीडीपी वृद्धि...

दीर्घकालिक आर्थिक विकास के लिए ग्रीन एनर्जी को बजट में मिले पर्याप्त फंडिंग : एक्सपर्ट्स

नई दिल्ली । बजट 2024-25 में सरकार को पर्यावरण और गवर्नेंस (ईएसजी) को प्राथमिकता देनी चाहिए, जिससे दीर्घकालिक आर्थिक विकास और पर्यावरण को बढ़ावा देने के लिए स्थिर पहल की...

वैश्विक चुनौतियों के बीच 7 प्रतिशत जीडीपी दर भारत के लिए मुमकिन : मुख्य आर्थिक सलाहकार

नई दिल्ली । वैश्विक आर्थिक चुनौतियों के बीच भारत के लिए वित्त वर्ष 2024-25 में 7 प्रतिशत की जीडीपी वृद्धि दर हासिल करना मुमकिन है। हालांकि, इस साल की शुरुआत...

बजट: ग्रामीण इंफ्रास्ट्रक्चर में निवेश से अर्थव्यवस्था होगी मजबूत : विशेषज्ञ

नई दिल्ली | ग्रामीण क्षेत्रों में अर्थव्यवस्था को उभारने के लिए पारंपरिक और नए सेक्टर दोनों में निवेश करने की आवश्यकता है। यह बात विशेषज्ञों ने कही। विशेषज्ञों का मानना...

कैपिटल गुड्स, डिफेंस, इलेक्ट्रॉनिक व टूरिज्म सेक्टर पर दिख सकता है बजट का असर

नई दिल्ली । केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से आम बजट 23 जुलाई को पेश किया जाएगा। स्टॉक मार्केट एक्सपर्ट्स का मानना है कि बजट में चार सेक्टरों...

admin

Read Previous

कर्नाटक : यौन शोषण मामले में जद(एस) विधान पार्षद सूरज रेवन्ना गिरफ्तार

Read Next

मायावती ने भतीजे आकाश आनंद को फिर से बनाया अपना उत्तराधिकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com